प्राइवेट क्लिनिक में इलाज के दौरान व्यक्ति की मौत:परिजन झोलाछाप डॉक्टर की गिरफ्तारी की मांग पर अड़े, 20 घंटे बाद बनी सहमति

बाड़मेर7 दिन पहले
चौहटन अस्पताल के बाहर खड़े परिजन।

बाड़मेर जिले के धनाऊ कस्बे में प्राइवेट क्लिनिक में इलाज के दौरान एक व्यक्ति की मौत हो गई। परिजनों ने झोलाछाप डॉक्टर पर गलत इंजेक्शन लगाने से व्यक्ति की मौत होने का आरोप लगाया। परिजनों ने हंगामा शुरू कर दिया। परिजन झोलाछाप डॉक्टर की गिरफ्तारी की मांग पर अड़ गए। मामला गरमाते ही डॉक्टर क्लिनिक बंद करके फरार हो गया। पुलिस और स्वास्थ्य विभाग ने निजी क्लिनिक को सीज कर दिया। शव को चौहटन अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया है। 20 घंटे बाद परिजनों व प्रशासन के बीच वार्ता के बाद सहमति बनने के बाद शव का पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सौंप दिया।

पुलिस के अनुसार धनाऊ सावा ग्राम पंचायत के राणे का तला निवासी भमराराम मेघवाल व उसकी पत्नी सोहजीदेवी अपने आठ वर्षीय पुत्र सुरेंद्र के साथ धनाऊ कस्बे में गुजरात मेडिकल स्टोर पर आए। मेडिकल क्लिनिक पर नीम हकीम ने इलाज के लिए इंजेक्शन लगाया। इसके कुछ देर बाद भमराराम के मुंह से झाग निकलने लगा।

धनाऊ सीएचसी में ले जाने के दौरान भमराराम की मौत हो गई। परिजनों ने गलत दवाई देने से मौत का आरोप लगाते हुए विरोध शुरू कर दिया। परिजनों व समाज के लोगों द्वारा आक्रोश के बाद चौहटन पुलिस एवं बीसीएमओ डॉ. रामजीवन भी मौके पर पहुंचे, पुलिस ने मृतक के शव को चौहटन अस्पताल की मोर्चरी में पोस्टमार्टम के लिए रखवाया। चौहटन मोर्चरी के आगे शुक्रवार सुबह परिजन व समाज के लोग काफी संख्या में एकत्रित हो गए। परिजन व समाज की मांग है कि क्लिनिक संचालक झोलाछाप डॉक्टर की गिरफ्तारी की जाए। मोर्चरी के बाहर पूर्व विधायक तरुणराय कागा, दलित नेता उदाराम मेघवाल, एडवोकेट सुरताराम मेघवाल, बहुजन क्रांति मोर्चा के मोतीराम मेनसा, पांचराज वणल, अमोलखराम सहित समाज के लोग मौजूद रहे। बीसीएमओ के मुताबिक क्लिनिक की जांच के लिए सीएमएचओ को पत्र लिख दिया है। परिजनों ने की रिपोर्ट के बाद मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सौंप दिया।

मेडिकल क्लिनिक को किया सीज

बीसीएमओ डॉ. रामजीवन विश्नोई ने क्लिनिक को सीज कर दिया। वहीं, नोटिस चस्पा कर डॉक्टर की प्रेक्टिस की जानकारी मांगी। बीसीएमओ ने बताया कि मौके पर क्लिनिक या मेडिकल स्टोर संबंधी कोई बोर्ड लगा हुआ नहीं था। संचालक मौके से भाग जाने के कारण अस्पताल को सीज कर दलाराम पुत्र आसुराम नामक व्यक्ति के नाम नोटिस चस्पा कर दिया गया है।

मृतक बीपीएल परिवार से

परिजनों से मिली जानकारी के मुताबिक मृतक भमराराम मेघवाल बीपीएल परिवार से है। इसके 4 बेटियां और एक 8 साल का बेटा है। ऐसे में गरीब परिवार के मुखिया की नीम हकीम ने जान ले ली। घटना के बाद रात को काफी संख्या में लोग अस्पताल के आगे इकट्‌ठे हो गए।

खबरें और भी हैं...