धर्म समाज:डबोई में सात दिवसीय भागवत कथा का समापन, देर रात तक भजन संध्या में उमड़े सैकड़ों श्रद्धालु

रामजी का गोल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

डबोई के स्थानीय हनुमानजी के मंदिर में सात दिवसीय भागवत कथा व नैनी बाई के मायरे के समापन पर नवरात्रा की पूर्व संध्या पर रात्रि जागरण संत प्रेम हरि ने गणेश वंदना व राम हरि कथा से शुरू की। नवरात्रा में प्रतिदिन भागवत कथा भजन संध्या और नैनी बाई के मायरे में श्रोताओं ने देर रात सम्मा बांधा। भगवान कृष्ण की लीला व कुं कुम केरा चरण पधारे,आरती कीजे श्री महाविष्णु देवा, जागरण परंपरा के अनुसार पांच आरती एवं जुमले की पांच साखियों की प्रस्तुति दी।

राम महिमा, अवतार कथा सहित राम भजनों की प्रस्तुति से श्रोताओं को मंत्र मुग्ध कर दिया। इस दौरान संत प्रेमहरि महाराज ने सत्संग का महत्व बताते हुए कहा कि मनुष्य जीवन में सत्संग का उतना ही महत्व है जितना भोजन का महत्व है। बिना सत्संग इस भवसागर से पार नहीं पड़ सकते। दिनेश वैष्णव ने परंपरा अनुसार भागवत कथा परंपराओं को निरंतर जारी रखने का आह्वान करते हुए प्रत्येक गृहस्थ के घर में प्रतिवर्ष एक कथा दिलवाने का आह्वान किया। आचार्य ने कहा कि मनुष्य जीवन में आए हैं तो नशा मुक्त जीवन जीना चाहिए। कार्यक्रम का मंच संचालन कमलेश जांगिड़ ने किया। नवरात्रा भागवत कथा में सरपंच हरीराम, भीयाराम गोदारा, वभूताराम फड़ोदा, ठाकराराम जाजड़ा, खेताराम जाजड़ा, चनणाराम फड़ोदा, भानाराम चोटिया, बाबुलाल, रामाराम सहित समाज के लोग उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...