• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Barmer
  • Sukhei 30, MiG And Jaguar Fighter Aircraft Will Be Thundering, Defense Minister Rajnath Will Land On Emergency Airstrip For The First Time

भारत-पाक बॉर्डर:गरजेंगे सुखाेई-30, मिग और जगुआर लड़ाकू विमान, पहली बार इमरजेंसी हवाई पट्टी पर उतरेंगे रक्षा मंत्री राजनाथ

बाड़मेर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आंध्र प्रदेश में ऐसी दो और पश्चिम बंगाल व जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रीय राजमार्गों पर एक-एक और हवाई पट्टी बनाई जा रही है। - Dainik Bhaskar
आंध्र प्रदेश में ऐसी दो और पश्चिम बंगाल व जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रीय राजमार्गों पर एक-एक और हवाई पट्टी बनाई जा रही है।
  • अड़गावा में भारतमाला प्रोजेक्ट के नेशनल हाइवे पर बनी इमरजेंसी हवाई पट्टी पर लड़ाकू विमानों का ट्रायल कल

भारत-पाक बॉर्डर के बाड़मेर-जालोर जिले की सीमा पर अगड़ावा में रक्षा एवं ट्रांसपोर्ट मंत्रालय की पहली इमरजेंसी हवाई पट्टी का उद्घाटन 9 सितंबर को रक्षा मंत्री राजनाथसिंह, सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी करेंगे। इस इमरजेंसी हवाई पट्टी पर गुरुवार को कई फाइटर प्लेन का ट्रायल होगा। पाकिस्तान बॉर्डर से सटी देश की यह पहली हवाई पट्टी है।

इस पर 33 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। एयरपोर्ट के अलावा पहली बार देश के रक्षा मंत्री राजनाथसिंह और सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी किसी हवाई पट्टी पर उतरेंगे। रक्षा व ट्रांसपोर्ट मंत्रालय के सहयोग से देश में इस तरह के करीब 12 हाइवे तैयार किए जा रहे हैं।

जानकारी के अनुसार 9 सितंबर को सुबह 8.30 बजे पालम एयरपोर्ट नई दिल्ली से रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह व केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी एक साथ ही दिल्ली से रवाना होंगे और सीधे अगड़वा जालाेर इमरजेंसी हवाई पट्टी पर उतरेंगे। इस दौरान सुबह 11 से 12.30 बजे तक दोनों मंत्री इमरजेंसी हवाई पट्टी पर एयरक्राफ्ट ऑपरेशन एवं फाइटर विमानों का फ्लाईपास्ट देखेंगे।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह व केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह व केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी

इस दौरान एसयू-30 एमकेआई एंड जगुआर फाइटर विमानों का फ्लाईपास्ट होगा। इमरजेंसी लैंडिंग फील्ड का उद्घाटन करेंगे। करीब 12.30 बजे राजनाथ व गडकरी दोनों मंत्री हवाई पट्टी से रवाना होकर दोपहर 1.15 बजे जैसलमेर एयरपोर्ट पहुंचेंगे।

अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर तारबंदी के नजदीक पहला ‘टच एंड गो’ ऑपरेशन
देश की पहली आपातकालीन हवाई पट्टी पर 9 सितंबर को करीब डेढ़ घंटे तक वायुसेना के बेड़े में शामिल कई लड़ाकू विमान तेज गर्जना के साथ उतरेंगे और उड़ान भी भरेंगे। रक्षा मंत्री राजनाथसिंह व सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी इस हवाई पट्टी पर लड़ाकू विमानों के ट्रायल के साक्षी बनेंगे। इस दौरान सुखोई एसयू-30, मिग और जगुआर जैसे लड़ाकू विमान तेज गर्जना के साथ आपातकालीन हवाई पट्टी पर लैंडिंग करेंगे।

ऐसी है इमरजेंसी हवाई पट्‌टी, फाइटर प्लेन की पार्किंग से लेकर वॉशरूम तक सुविधा
बाड़मेर-जालोर जिले की सीमा अगड़ावा में बनी इमरजेंसी हवाई पट्टी वायुसेना के लिए इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए बनाई गई है। 32.95 करोड़ रुपए की लागत से बनी इस हवाई पट्टी की 3 किमी. लंबाई और 33 मीटर चौड़ाई है। हवाई पट्टी के दोनों सिरों पर 40 गुणा 180 मीटर आकार की दो पार्किंग भी बनाई गई है, ताकि लैंडिंग के बाद विमानों को पार्क किया जा सके। इसके अलावा 25 गुणा 65 मीटर आकार की एटीसी प्लिंथ का डबल मंजिला एटीसी केबिन के साथ निर्माण किया गया है जो पूरी तरह से वॉशरूम सुविधायुक्त है। इसके अलावा इमरजेंसी हवाई पट्टी के पास 3.5 किमी. लंबी और 7 मीटर चौड़ी सर्विस रोड भी बनाई गई है।

इन देशों में भी हैं हाइवे इमरजेंसी हवाई पट्‌टी
जर्मनी, स्वीडन, दक्षिण कोरिया, ताइवान, फिनलैंड, स्विटजरलैंड और सिंगापुर सहित कई देशों ने अपने राजमार्गों और एक्सप्रेसवे पर विमानों के उतरने और आपात स्थिति में उड़ान भरने के लिए ऐसी हवाई पट्टी बनाई हैं। जबकि भारत में यह पहली इमरजेंसी हवाई पट्टी है, जो बनकर तैयार हो चुकी है। जबकि आंध्र प्रदेश में ऐसी दो और पश्चिम बंगाल व जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रीय राजमार्गों पर एक-एक और हवाई पट्टी बनाई जा रही है।

उत्तर प्रदेश में लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे पर हवाई पट्टी ऑपरेशनल है। जिस पर 2017 में वायुसेना ने ट्रायल किया था। भारत में ऐसे राजमार्ग पर करबी 12 जगह हवाई पट्टी बनाया जाना प्रस्तावित है, जिसमें कई जगह काम चल रहा है और कुछ जगह शुरू होना है।