पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Barmer
  • The Allegations Against The Revenue Minister And His Brother Were Politically Motivated Conspiracy, The Other Side Of Prajapat Samaj Accused

कमलेश एनकांउटर मामला:राजस्व मंत्री व उनके भाई पर लगाए गए आरोप राजनीति से प्रेरित षड़यंत्र, प्रजापत समाज के दूसरे पक्ष का आरोप

बाड़मेर17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कमलेश प्रजापत - Dainik Bhaskar
कमलेश प्रजापत

कमलेश प्रजापत एनकाउंटर मामले में रविवार को परिजनों सहित प्रजापत समाज के लोगों की ओर से सीबीआई को भेजे ज्ञापन में राजस्व मंत्री हरीश चौधरी व उनके भाई मनीष पर कई गंभीर आरोप लगाए थे। अब प्रजापत समाज बाड़मेर के दूसरे पक्ष जिसमें प्रजापत समाज बाड़मेर के अध्यक्ष रावताराम, मारू प्रजापत श्रीयादे चेरिटेबल ट्रस्ट अध्यक्ष खेराजराम ने बताया कि कमलेश एनकाउंटर के बाद प्रजापत समाज की बैठक हुई, जिसमें सभी ने सीबीआई जांच करवाने की मांग की। समस्त नेताओं ने इस मांग का समर्थन किया।

इसके बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सीबीआई जांच की अनुशंषा कर दी। इसके बाद संघर्ष समिति बनाई थी, उसे अध्यक्ष द्वारा उस कमेटी को भंग कर दिया गया। अभी कुछ दिन पूर्व सीबीआई टीम जांच के लिए बाड़मेर आई, तब परिवार के साथ कुछ लोगों ने इकट्ठा होकर तथ्यहीन ज्ञापन दिया।

राजस्व मंत्री हरीश चौधरी उनके भाई मनीष का नाम लेकर ज्ञापन दिया गया। प्रजापत समाज के सभी मौजिज लोग इस षड़यंत्र का विरोध करते है। इन्होंने कहा है कि जब तक सीबीआई जांच पूरी नहीं होती है तब तक किसी व्यक्ति विशेष पर सबूतों के अभाव में तथ्यहीन और झूठे दोषारोपण नहीं किए जाए। कमलेश प्रजापत एनकाउंटर के बाद प्रजापत समाज द्वारा जिस समिति का गठन किया गया था, उसका उद्देश्य था कि एनकाउंटर की जांच सीबीआई से करवाई जाए।

सीबीआई जांच के आदेश होने से पहले संघर्ष समिति की ओर से कई बार बैठक हुई, जिसमें समाज के मौजिज लोग एवं समिति सदस्य शामिल होते थे। इनके सामने राजस्व मंत्री हरीश चौधरी या उनके भाई पर लगे आरोप, सांडेराव प्रकरण में मंत्री के भाई की ओर से 10 लाख रुपए लेन देन की बात संघर्ष समिति भंग होने तक सामने नहीं रखी।

ज्ञापन में आरोप षड्यंत्रपूर्वक और राजनैतिक द्वेष भावना से व्यक्ति विशेष की छवि खराब करने के लिए लगाए। बिना सबूतों के आरोप लगाकर जांच को गलत दिशा में भ्रमित कर जांच को प्रभावित करने का आरोप लगाया है। इसमें प्रजापत समाज का कोई लेना देना नहीं है।

यह था मामला - 22 अप्रैल को बाड़मेर पुलिस ने कमलेश प्रजापत का एनकाउंटर किया था। राज्य सरकार की अनुशंसा के बाद सीबीआई ने केस दर्ज कर जांच शुरू की है। सर्किट हाउस में ठहरी सीबीआई टीम को ज्ञापन देने के लिए मृतक कमलेश का भाई व अन्य लोग पहुंचे थे। इस ज्ञापन में पहली बार सीधे तौर पर राजस्व मंत्री हरीश चौधरी व उनके भाई मनीष पर गंभीर आरोप लगाए गए। सांडेराव प्रकरण में नाम कटवाने के लिए मनीष की ओर से 10 लाख रुपए लिए जाने के आरोप लगाए गए। वहीं रिफाइनरी में काम मिलने से प्रतिस्पर्धा रखने सहित कई आरोप थे।

इसके दो दिन अब प्रजापत समाज की ओर से उन आरोपों को राजनैतिक द्वेष भावना से प्रेरित होने का आरोप लगाते हुए अपील की है कि जब तक सीबीआई जांच में किसी को दोषी नहीं ठहराया जाए तब किसी व्यक्ति विशेष पर आरोप नहीं लगाए जाए। सीबीआई अपना काम कर रही है उसे भ्रमित करना ठीक नहीं है।

खबरें और भी हैं...