पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Barmer
  • The Minister In charge Of Barmer, Sukhram Vishnoi, Talks About Getting Angry, The Minister Denied The News That Got Angry, All This Was A Product Of The Media

गहलोत सरकार की कुंडली में विवाद:वरिष्ठ विधायक हेमाराम के इस्तीफे का मुद्दा ठंडा भी नहीं हुआ कि कैबिनेट में मंत्री भिड़ गए और अब CM के उद्घाटन कार्यक्रम से मंत्री सुखराम विश्नोई ने बनाई दूरी

बाड़मेर3 महीने पहले
अधिकारियों के साथ बैठक करते बाड़मेर प्रभारी मंत्री सुखराम विश्नोई।

गहलोत सरकार में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। पहले वरिष्ठ विधायक हेमाराम चौधरी ने विधायकी से इस्तीफा दिया। यह मुद्दा अभी ठंडा नहीं हुआ था कि कैबिनेट बैठक में मंत्री भिड़ गए। एक के बाद एक हो रही इस तरह के घटनाक्रमों को अभी कांग्रेस मैनेज भी नहीं कर पाई कि एक और मामला सामने आ गया। अब बाड़मेर जिला प्रभारी मंत्री सुखराम विश्नोई बाड़मेर में होने के बावजूद मुख्यमंत्री के वर्चुअल उद्घाटन कार्यक्रम में शरीक नहीं हुए। इसको लेकर तरह-तरह की चर्चाएं हो रही हैं।

5 जिलों में ऑक्सीजन प्लांट और मेडिकल सुविधाओं का शिलान्यास

सीएम ने 5 जिलों में ऑक्सीजन प्लांट और मेडिकल सुविधाओं का शिलान्यास किया। जालोर में पुलिस की कार्यप्रणाली से नाराज होकर सुखराम विश्नोई के बेटे डॉक्टर भूपेंद्र विश्नोई पिछले कई दिनों से धरने पर बैठे हैं। कार्रवाई नहीं होने से मंत्री की नाराजगी की बात सामने आ रही है। उधर, मंत्री ने ऐसी खबरों का खंडन किया है।

बना चर्चा का विषय

मंत्री सुखराम विश्नोई का जालोर ज़िला कलेक्टर की गाड़ी में बाड़मेर आना और कमांडो का भी साथ नजर न आना चर्चा का विषय बना हुआ है। सुखराम विश्नोई बाड़मेर के ज़िला प्रभारी मंत्री हैं। मंत्री के बेटे बीते रविवार को झाब थाने के आगे चल रहे धरने पर भी जाकर बैठे थे। तब से सोशल मीडिया पर नाराजगी की चर्चा चल रही है।

जालोर जिला कलेक्टर की गाड़ी में रवाना होते प्रभारी मंत्री सुखराम विश्नोई।
जालोर जिला कलेक्टर की गाड़ी में रवाना होते प्रभारी मंत्री सुखराम विश्नोई।

वैक्सीन मुद्दे पर पहुंचे थे बाड़मेर

फ्री वैक्सीन को लेकर आज कांग्रेस हाईकमान के आदेश के बाद राजस्थान सहित देश भर में अभियान चलाया गया। प्रदेश के सभी जिला प्रभारी अपने प्रभार वाले ज़िलों में प्रेस वार्ता कर राष्ट्रपति के नाम का ज्ञापन ज़िला कलेक्टर को दे रहे हैं। इसी ज्ञापन को देने के लिए ज़िला प्रभारी सुखराम विश्नोई बाड़मेर पहुंचे थे।

प्रभारी मंत्री जालोर जिला कलेक्टर की गाडी में पहुंचे बाड़मेर
प्रभारी मंत्री जालोर जिला कलेक्टर की गाडी में पहुंचे बाड़मेर

अपनी गाड़ी में नहीं आए

खास बात यह है कि प्रभारी मंत्री खुद की गाड़ी लेकर नहीं आए। वह ज़िला कलेक्टर की गाड़ी में पहुंचे। मंत्री के साथ उनके कंमाडो भी नहीं थे और जिला प्रभारी होने के नाते 17 करोड़ के वर्चुअल कार्यक्रम में भी शरीक होने से पहले ही जैसलमेर जिले के लिए रवाना हो गए। गुरुवार को सूचना एवं जनसंपर्क कार्यालय से जारी प्रेस नोट में प्रभारी मंत्री का वर्चुअल लोकार्पण में शरीक होना का कार्यक्रम था। प्रभारी मंत्री सुखराम विश्नोई से पूछा गया की आज जिला कलेक्टर की गाड़ी लेकर आए और कमांडो भी साथ नहीं हैं। सरकार के साथ सबकुछ ठीक तो चल रहा है। इस पर उन्होंने कहा- गाड़ी खराब है। कमांडों के सवाल पर बोले- यह लोगों के दिमाग का भ्रम है। यह पूछने पर कि मंत्री प्रताप सिंह खाचरिवास का आरोप है कि प्रशासन फोन नहीं उठाता। इस पर बोले- यह उनका मामला है। हमारे बाड़मेर, जालोर सहित सभी अधिकारी फोन उठाते हैं। बेटे के धरने पर बैठने के सवाल पर बोले- जालोर में पीड़ित लोग धरने पर बैठे थे। हमारा फर्ज बनता है कि इनका सहयोग करें। अब आरोपियों की गिरफ्तारी हो गई है। अब धरना समाप्त हो गया।

पटि्टका से नाम गायब

गुरुवार को सूचना जनसंपर्क कार्यालय से जारी प्रेस नोट में 17 करोड़ के अलग-अलग कार्यों के वर्चुअल लोकार्पण कार्यक्रम में शरीक होने का प्रभारी मंत्री का कार्यक्रम था। लेकिन वह कार्यक्रम में शामिल नहीं हुए हैं। वेदांता केयर फील्ड अस्पताल की पट्टिका पर प्रभारी मंत्री का नाम भी नजर नहीं आया।

वेदांता केयर फील्ड अस्पताल की पट्टिका पर प्रभारी मंत्री सुखराम विश्नोई का नाम नहीं है।
वेदांता केयर फील्ड अस्पताल की पट्टिका पर प्रभारी मंत्री सुखराम विश्नोई का नाम नहीं है।

धरने पर मंत्री का बेटा

जालोर जिले के झाब थाना क्षेत्र के जेलातरा गांव में 25 मई को एक नाबालिग के साथ हुए दुष्कर्म के मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर 30 मई को परिजन झाब थाने के बाहर धरने पर बैठे हैं। उनके साथ वन एवं पर्यावरण मंत्री सुखराम बिश्नोई के बेटे डॉक्टर भूपेंद्र विश्नोई व कांग्रेस के कुछ अन्य नेता भी शामिल हैं। इन्होंने दो मांगें रखी हैं। दुष्कर्म की घटना में तीसरे आरोपी को गिरफ्तार करने की मांग की है। साथ ही, जालोर पुलिस अधीक्षक को भी हटाने की मांग रखी है। इस संबंध में उच्च स्तर पर ज्ञापन भी भेजा गया है।

खबरें और भी हैं...