• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Barmer
  • The Trade Union Submitted A Memorandum To The SP For Not Taking Action On The Incident Of Arson In Kanod Town, The Traders Got Angry

कानोड़ व्यापार संघ मिला एसपी से:कानोड़ कस्बे में आगजनी की घटना पर 13 माह बाद भी कार्रवाई नहीं, व्यापार संघ ने एसपी को सौंपा ज्ञापन, व्यापारी आक्रोशित

बाड़मेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बाड़मेर एसपी ऑफिस के बाहर खड़े पीड़ित और व्यापार संघ के प्रतिनिधि। - Dainik Bhaskar
बाड़मेर एसपी ऑफिस के बाहर खड़े पीड़ित और व्यापार संघ के प्रतिनिधि।

बाड़मेर जिले के कानोड़ कस्बे में शोरूम में आग लगाकर जलाने के मामले में बुधवार को शोरूम मालिक और कानोड़ व्यापार संघ के प्रतिनिधि बुधवार को जिला पुलिस अधीक्षक से मिले। उन्होंने आगजनी के आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर एसपी को ज्ञापन सौंपा। आरोप लगाया कि जांच अधिकारी अधिकारी निष्पक्ष जांच नहीं कर रहे है।

कानोड़ व्यापार संघ के अध्यक्ष के नेतृत्व में पीड़ित भोमाराम, जोगराज सिंह सहित व्यापारी एसपी आनंद शर्मा से मिले और ज्ञापन सौंप कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। एसपी आनंद शर्मा के आश्वासन पर पूर्व निर्धारित 14 अगस्त से बाजार बंद करने के निर्णय को वापस ले लिया है।

व्यापार संघ कानोड़ के अध्यक्ष बाबू सिंह राजपुरोहित का कहना है कि 13 माह पहले कानोड़ कस्बे में आगजनी की घटना हुई थी। इसकी जांच बायतु डीएसपी जगुराम कर रहे हैं, लेकिन डीएसपी हमें गुमराह कर रहे हैं। इसलिए एसपी से मिलने के लिए आए हैं। एसपी के आश्वासन पर हम 14 अगस्त से कानोड़ बाजार बंद करने वाले थे। अब हम 20 अगस्त तक पुलिस कार्रवाई का इंतजार कर रहे हैं। उसके बाद हम अगला कदम उठाएंगे।

यह था मामला

दरअसल, पीड़ित भोमाराम के कानोड़ कस्बे के शिवदान सिंह मार्केट में कपड़े के शोरूम में रात को अज्ञात लोगों ने 30 जून 2020 को आग लगा दी थी। आग लगने से शोरूम पूरी तरह जल गया। इससे पास की दुकानों में भी आग लग गई थी। इससे करीब 50 लाख रुपए का नुकसान हुआ था।

अज्ञात लोगों के खिलाफ गिड़ा थाने में मामला दर्ज करवाया था, लेकिन पुलिस ने जांचकर एफआर पेश कर दी थी। इसके बाद घटनाक्रम से जुड़ा वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। इसके बाद पीड़ित और व्यापार संघ के लोग पुलिस अधीक्षक से मिलकर वायरल वीडियो की सीडी और ज्ञापन देकर मांग की थी कि आरोपियों की पहचान कर गिरफ्तार करें। पुलिस ने केस को रीओपन कर जांच बायतु डीएसपी जुगराम को दे दी।

पीड़ित पक्ष का आरोप
पीड़ित पक्ष का आरोप है कि पुलिस आरोपियों से पूछताछ न कर हम पीड़ित लोगों को परेशान कर रही है। राजनीतिक दबाव के कारण पुलिस आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रही है।

खबरें और भी हैं...