शहर की 5 बड़ी कॉलोनियों में जल माफियाओं का जाळ:नहरी पानी को टांकों में बूस्टर लगाकर स्टोर करते हैं जल माफिया फिर महंगे दामों पर बेचते हैं टैंकर

बाड़मेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गूगल मैप से चिन्हित स्थानों से हो रहा है बड़ी मात्रा में पानी चोरी। - Dainik Bhaskar
गूगल मैप से चिन्हित स्थानों से हो रहा है बड़ी मात्रा में पानी चोरी।

भीषण गर्मी के चलते जलदाय विभाग शहरी लाेगाें काे पर्याप्त जलापूर्ति करने में ताे नाकारा साबित हाे रहा है वहीं दूसरी ओर जल माफिया काे भी शह दे रहा है। शहर में इन दिनाें जल माफिया का जाल इतना तेजी से फैल रहा है कि उपभोक्ता तक पर्याप्त पानी पहुंचने से पहले ही लाइनाें से पानी चाेरी किया जा रहा है। लाेगाें की प्यास बुझाने के लिए दिए गए पानी की ही चाेरी सरेआम हाे रही है। विभागीय कार्मिकों की मिलीभगत के चलते जल माफिया का जाल सदर थाने से रीकाे एरिया तक फैला हुआ है।

शहर के शिव नगर जीएलआर से करीब पांच साै मीटर तक के चाराें ओर के क्षेत्र में ऐसे करीबन 10 ठिकाने है। इनमें राेजाना 200 से अधिक टैंकराें से पानी सप्लाई किया जा रहा है। प्रत्येक प्वाइंट पर पानी स्टाेरेज के लिए 20 से 25 टैंकर क्षमता के टांके बना रखे है। शहर के शिव नगर, दूध डेयरी व जाेगियाें की दड़ी जीएलआर में पीएचईडी की ओर से जीराे प्वांइट से पानी की सीधी सप्लाई रात में की जा रही है।

ऐसे में जल माफिया पानी की लाइनाें से अवैध कनेक्शन के जरिए सीधे पानी चाेरी कर टांकाें में स्टाेरेज कर रहे हैं। भास्कर टीम ने लगातार सात दिन तक इनके ठिकानों पर नजर रखी। सदर थाना के पीछे 500 मीटर की दूरी से ही पाइप लाइनाें से सीधे पानी चाेरी किया जा रहा है। इनके 10 ठिकाने बनाए गए है। इनमें से सात ठिकानें ईंटाें की फैक्ट्री के बाड़े तथा तीन ठिकाने घराें में बने हुए है। पानी स्टाेरेज के लिए 20 से 25 टंकी क्षमता के टांकाें में 2.5 इंची लाइन लगाकर सीधे मेन लाइन से कनेक्शन लिए गए है।

रात के समय शिव नगर, दूध डेयरी, जाेगियाें की दड़ी व शास्त्री नगर जीएलआर में पानी सप्लाई हाेती है। ऐसे में जल माफिया अवैध तरीके से इन पाइप लाइनाें से सीधे पानी चाेरी कर रहे हैं। अधिकतर चाेरी शिव नगर जीएलआर से जाने वाली पाइप लाइन व राजवेस्ट पाइप लाइन से हाे रही है। इससे शास्त्रीनगर, गांधीनगर, विष्णु काॅलाेनी, जाेगियाें की दड़ी, जाटावास क्षेत्र के वाशिंदाें के घराें में पर्याप्त पानी नहीं पहुंच रहा है।

कुछ माह पहले पार्षदों की ओर से जल माफियाओं के खिलाफ पानी चाेरी काे लेकर ज्ञापन दिया गया था। इसके बाद पीएचईडी ने कार्रवाई करते हुए एक साथ 17 कनेक्शन काटे और 13 लोगों के खिलाफ केस दर्ज करवाए गए। इसके बाद विभाग की ओर से काेई कार्रवाई नहीं की गई। ऐसे में जल माफिया दुबारा सक्रिय हुए और अवैध कनेक्शन लेकर पानी चाेरी कर रहे हैं।

रोज पानी चुराकर कर रहे हैं स्टोरेज,इसके बाद दो सौ से अधिक टैंकरों से महंगे दामों पर करते हैं शहर में सप्लाई

केस.1
सोमवार को भास्कर टीम ने दाेपहर 12:30 बजे सदर थाने के पास से जा रहे तीन टैंकराें का पीछा किया। शिव नगर राेड पर एक गली में एक साथ दाे टैंकर घर के बाहर खड़े हुए। इसके बाद बाड़े का दरवाजा खाेला गया टैंकर बाड़े में ले गए और दरवाजा बंद हुआ। एक घंटे के बाद दाेनाें टैंकर शहर में पानी सप्लाई के लिए रवाना हुए।

केस.2
मंगलवार काे दाेपहर 2:30 बजे शिव नगर स्थित जीएलआर से 300 मीटर दूरी पर स्थित एक ईंटाें की फैक्ट्री में टैंकर घुसा। करीब आधे घंटे तक खड़ा रहने के बाद टैंकर में पानी भरवाना शुरू किया। इससे पहले दाे टैंकर पानी से भरवाकर रवाना किए गए।

केस.3
बुधवार शाम 6 बजे विष्णु काॅलाेनी जीएलआर से करीब तीन साै मीटर दूरी सरस दूध डेयरी के पीछे बने पक्के मकान में 20 से 25 टैंकर क्षमता के स्टाेरेज से पास के खाली प्लांट में टैंकर काे खड़ा किया गया। कुछ देर बाद मकान से एक आदमी आया और दीवार के पास से पाइप निकालकर टैंकर में डाला। कुछ देर बाद पानी भरकर टैंकर रवाना हुअा।

केस.4
गुरुवार दाेपहर 1:30 बजे एनएच 68 चामुंडा चाैराहा से टैंकर का पीछा किया गया। शिव नगर जीएलआर से करीब 400 मीटर की दूरी पर बने दाे मंजिला मकान के अंदर टैंकर घुसा। आधे घंटे बाद टैंकर पानी भरकर रवाना किया गया।

केस.5
शुक्रवार शाम करीब 4 बजे शिव नगर से देशांतरियाें के वास जाने वाली सड़क से करीब साै मीटर दूरी पर स्थित ईंटाें के बाड़े के पास एक गली में टैंकर भरता हुआ नजर आया। भरने के बाद टैंकर पानी की स्पलाई के लिए रवाना हो गया।

इनका कहना; विभाग की ओर से नजर रखी जा रही है
कुछ दिन पहले शिव नगर क्षेत्र के पास चार जल माफियाओं की शिकायत मिली थी। टीम माैके पर पहुंची लेकिन जिसके खिलाफ शिकायत की गई थी उनमें से एक के कनेक्शन कटे हुए पाए गए। दाे के कनेक्शन सही मिले तथा एक का नाम सही नहीं हाेने से मिला ही नहीं। विभाग की ओर से नजर रखी जा रही है। शिकायत मिलने के साथ ही कार्रवाई की जाएगी। पानी चाेरी काे किसी भी हालत में बख्शा नहीं जाएगा। -सतवीर सिंह यादव, एक्सईएन, नगरखंड

खबरें और भी हैं...