पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पानी की चोरी:जलदाय विभाग कर्मियों की शह पर मुख्य लाइन से पानी की चोरी, विरोध करने के बाद भी कार्रवाई नहीं

बालोतरा/पचपदरा17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पचपदरा . लोडर से सही किया जा रहा रास्ता। - Dainik Bhaskar
पचपदरा . लोडर से सही किया जा रहा रास्ता।
  • पचपदरा के जवाहर नवोदय विद्यालय के समीप झाड़ियों में मुख्य पाइप लाइन से भर रहे थे पानी, ग्रामीणों ने घेराबंदी की

भीषण गर्मी में एक तरफ तो ग्रामीण बूंद-बूंद पानी के लिए तरस रहे हैं, दूसरी तरफ जलदाय विभाग के कार्मिक सप्लाई की मुख्य लाइन से ट्रैक्टर-टंकियों में पानी भरवाकर कमाई करने में लगे हुए है। पचपदरा से बिठूजा जाने वाले इस मुख्य पाइप लाइन से प्रतिदिन लाखों लीटर पानी चोरी कर बेचा जा रहा है। कार्मिकों की मिलीभगत को इस बात से अच्छी तरह से समझा जा सकता है कि मंगलवार को पचपदरा जवाहर नवोदय विद्यालय के समीप झाड़ियों में कुछ ट्रैक्टर संचालक पाइप लाइन से पानी भर रहे थे। वहीं मिट्‌टी में ट्रैक्टर फंसने पर लाेडर लगाकर रास्ता बनाया जा रहा था।

इस दरम्यान जलदाय विभाग का कार्मिक भी मौके पर मौजूद था, लेकिन ट्रैक्टर संचालकों को किसी तरह की रोकटोक नहीं की जा रही थी। इस दरम्यान ग्रामीणों के मौके पर पहुंचने पर कार्मिक ने ट्रैक्टर संचालकों को वहां से भगा दिया। ऐसे में पचपदरा में लंबे समय से पेयजल लाइन से चोरी कर पानी बेचा जा रहा है, जबकि कस्बेवासी व पाइप लाइन से जुड़े गांवों के ग्रामीण पानी के लिए तरस रहे हैं। उल्लेखनीय है कि पचपदरा में रिफाइनरी का कार्य शुरू होने के बाद कस्बे सहित आस-पास के क्षेत्र में बड़ी संख्या में होटल-रेस्टोरेंट, मकान, दुकानों सहित अन्य निर्माण कार्य चल रहे हैं।

निर्माण कार्यों में पानी की अधिक खपत रहने पर इन दिनों ट्रैक्टर व टैंकर संचालकों की अच्छी कमाई हो रही है। ऐसे में ट्रैक्टर संचालक पेयजल लाइनों पर लगे वॉल्व के आस-पास मुख्य लाइन में लीकेज कर चोरी-छीपे पानी भरकर बेच रहे हैं। पचपदरा में जवाहर नवोदय विद्यालय के समीप झाड़ियों में मुख्य लाइन पर लगे वॉल्व के समीप बड़ा लीकेज कर रखा हैं, इसमें पाइप डालकरट्रैक्टर संचालक टंकियों में पानी भरकर सप्लाई करते हैं। लंबे समय से मुख्य पाइप लाइन से पानी चोरी किया जा रहा है। इस सबकी जानकारी के बावजूद जलदाय विभाग कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है।

जलदाय कार्मिक की मौजूदगी में चोरी

पचपदरा से बिठूजा जाने वाली पाइप लाइन पर मंगलवार को ट्रैक्टर संचालक पानी भर रहे थे। वहीं पास में एक लोडर लगा ट्रैक्टर रास्ता बना रहा था, ताकि पानी गिरने से हुए कीचड़ में वाहन धंसे नहीं। इस दरम्यान यहां ग्रामीण पहुंचे तो जलदाय कार्मिक गोपालराम को मौके पर खड़ा देखा। पास में ही मुख्य पाइप लाइन के समीप लगे ट्रैक्टर चालक टंकियों में पानी भर रहे थे। ग्रामीणों ने एतराज जताते हुए ट्रैक्टर संचालकों को पकड़ने व मामला दर्ज करवाने की बात कही तो कार्मिक ने ट्रेक्टर संचालकों को वहां से भगा दिया। उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। ग्रामीणों का आरोप है कि जलदाय विभाग के कार्मिक ट्रैक्टर संचालकों से प्रति ट्रैक्टर वसूली कर पानी भरवाने का काम कर रहे हैं।

500 रुपए में भरवाई जा रही टंकियां

पचपदरा . जवाहर स्कूल के समीप मुख्य लाइन से पानी भर रहे ट्रैक्टर संचालक।
पचपदरा . जवाहर स्कूल के समीप मुख्य लाइन से पानी भर रहे ट्रैक्टर संचालक।

पचपदरा के समीप से गुजरने वाली मीठे पानी की लाइन व बिठूजा को जोड़ने वाली मुख्य लाइन पर लीकेज कर हर दिन लाखों लीटर पानी चोरी कर बेचा जा रहा है। जलदाय विभाग के कार्मिकों की संलिप्तता के चलते प्रति ट्रैक्टर400-500 रुपए वसूले जाते हैं, ऐसे में ग्रामीणों के दर्जनों बार शिकायत करने पर किसी तरह की कोई कार्रवाई नहीं की जाती है। उच्चाधिकारियों तक शिकायत पहुंचने पर वे जलमाफियाओं को पहले से ही सूचना देकर वहां से भगा देते हैं। रिफाइनरी का कार्य शुरु होने के बाद जगह-जगह यह स्थिति बनी हुई है। ऐसे में विभाग को ऐसे कार्मिकों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के साथ पाइप लाइनों में लीकेज से चोरी कर पानी बेचने वालों के खिलाफ भी मामला दर्ज करवाना चाहिए।

जलदाय विभाग की लाइन से कुछ ट्रैक्टर संचालक चोरी-छीपे पानी भरकर बेच रहे हैं। मंगलवार को लाइनमैन के मौके पर पहुंचने के दौरान ट्रैक्टर संचालक वहां से पानी भर रहे थे। इस पर लाइनमैन को ट्रैक्टरसंचालकों काे रुकवाकर उनके खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करवाने का कहा, लेकिन उन्होंने कार्रवाई की बजाय उन्हें भगा दिया। मैं सरकारी गवाह बनने को भी तैयार था, लेकिन जलदाय विभाग के कार्मिक मिलीभगत के चलते कार्रवाई नहीं करना चाहते हैं।
- अनिल खारवाल, रहवासी पचपदरा

लीकेज की जानकारी पर लाइनमैन को मौके पर भेजा था। इस दौरान कुछ ट्रेक्टर संचालक लाइन से पानी भरते मिले। उनके खिलाफ मामला दर्ज करवाया जाएगा।
- राजेंद्र कुमार, जेईएन, जलदाय विभाग पचपदरा

आज मैं अवकाश पर हूं, इस संबंध में एईएन से बात करो।
- जे.पी. गुप्ता, एक्सईन, जलदाय विभाग बालोतरा

खबरें और भी हैं...