तीन की मौत:4 बच्चे तालाब में नहाने उतरे तो चिकनी मिट्टी से फिसल कर पैंदे में डूबे

बाड़मेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

रामसर थाना क्षेत्र के सैलाऊ गांव में एक तालाब में डूबने से तीन बच्चों की माैत हाे गई। एक दिन पूर्व बारिश से तालाब में पानी आया था। इसी वजह से सुबह के समय बच्चे नहाने के लिए तालाब पर पहुंच गए। इस दौरान बच्चे खेल-खेल में पानी में उतर गए। मिट्टी होने से पैर फिसल गया और बच्चे दलदल में फंस। पानी की गहराई में जाने से तीन बच्चों की डूब कर मौत हो गई, जबकि एक घायल है। कांग्रेस जिलाध्यक्ष फतेह खां के पड़ोसी है।

रामसर थानाधिकारी सहीराम ने बताया कि सैलाऊ गांव में रविवार दोपहर बाद 3.30 बजे 12 से 15 वर्ष की उम्र के 4 बच्चे खेलते हुए खेत में बने एक छोटे तालाब पर पहुंच गए। एक दिन पूर्व ही बारिश होने से तालाब में पानी आया हुआ था। इस दौरान बच्चे नहाने के लिए पानी में उतर गए। बच्चों को यह मालूम नहीं था कि पानी खेतों से बह कर आया है और इसके साथ चिकनी मिट्टी भी है। ऐसे में खेलते हुए बच्चे पानी में उतरे तो पैर फिसलने के साथ फिसलकर पानी की गहराई में चले गए। इसमें चारों बच्चे डूबने लगे। एक बच्चा जैसे-तैसे बच कर बाहर निकला, जबकि तीन बच्चे पानी में ही रह गए।

इस हादसे में सोहेल (14) पुत्र शोबदार खां निवासी सैलाब रामसर, आसिफ (15) पुत्र हसन खां, शाहिद (12) पुत्र मुराद की तालाब में डूबने से मौत हो गई। जबकि जावेद पुत्र शोबदार घायल है। जब परिवार के लोग तालाब पर पहुंचे तो चारों बच्चे डूबे हुए थे। रामसर अस्पताल लाने पर तीन को मृत घोषित कर दिया, जबकि एक घायल को बाड़मेर रेफर किया गया।

इन दिनों बारिश का मौसम है। ग्रामीण क्षेत्रों में तालाब-नाडियो में पानी का भरा हुआ है। ऐसे में परिजन अपने बच्चों को ऐसे भराव क्षेत्रों के नजदीक नहीं जाने दें। बकरियां चराते हुए अनजान बच्चे खेल-खेल में नहाने के लिए पानी में उतर जाते है और हर साल ऐसे दर्जनों बच्चों की मौत हो जाती है। परिजन अपने बच्चों को भी समझाए कि जहां पानी भरा हो वहां नहीं जाए। इसके अलावा कई जगह अवैध खनन से गड्ढे बने हुए है, जिनमें भी पानी का भराव है।

खबरें और भी हैं...