पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

धोखाधड़ी का मामला:नौकरी लगवाने का झांसा देकर एनजीओ संचालक ने 4.20 लाख रुपए हड़प लिए

बयाना9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बयाना निवासी एक एनजीओ संचालक द्वारा सरकारी या गैर- सरकारी संस्थान में स्थाई नौकरी लगवाने का झांसा देकर 4.20 लाख रुपए हड़पने का मामला सामने आया है। मामले को लेकर पीड़ित ने एनजीओ संचालक के खिलाफ थाने में धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया है।

पुलिस के अनुसार कस्बे के जैन गली निवासी दर्शना पाराशर पुत्री टीकमचंद ने दर्ज कराई रिपोर्ट में बताया कि वह 2007 से 2010 तक कस्तूरबा गांधी छात्रावास में हॉस्टल वार्डन के पद पर अस्थाई तौर पर कार्यरत थी। उस दौरान हॉस्टल में भोजन के सूखे सामान की सप्लाई करने का टेंडर एनजीओ पवन शिक्षण प्रशिक्षण संस्थान के संचालक दमदमा रोड निवासी सुरेश शर्मा के पास था। एक दिन हॉस्टल में उससे मिलने के लिए उसके बुआ का लड़का सौरभ व्यास व उसका साथी बृजेश शर्मा आए हुए थे। जो प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे थे।

उस दौरान हॉस्टल में मौजूद संचालक सुरेश शर्मा ने कहा कि वह अपने एनजीओ के जरिये बेरोजगार युवक-युवतियों को सरकारी अथवा गैर सरकारी संस्थान में स्थाई नौकरी लगवाता है। वह उनकी भी नौकरी लगवा सकता है। रिपोर्ट में आरोप है कि प्रतियोगी परीक्षा में असफल होने के बाद आरोपी सुरेश शर्मा ने एक दिन सौरभ व्यास व बृजेश शर्मा से संपर्क किया तथा 6 लाख रुपए में उन दोनों की नौकरी लगवाने का झांसा दिया।

रिपोर्ट में आरोप है कि इसके बाद आरोपी सुरेश शर्मा ने उससे व उसके भाइयों से नौकरी लगवाने की एवज में 4.20 लाख रुपए बैंक खाते, ऑनलाइन ट्रांसफर व नकदी के तौर पर ले ली तथा बाद में ना तो नौकरी लगवाई और ना ही राशि वापस की। रुपए वापस करने का तगादा करने पर झूंठे केस लगा कर फंसाने की धमकी भी दे दी। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की है। उल्लेखनीय है कि पूर्व में भी जिले में नौकरी लगवाने का झांसा देकर लाखों रुपए हड़पने के मामले सामने आ चुके हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आपका संतुलित तथा सकारात्मक व्यवहार आपको किसी भी शुभ-अशुभ स्थिति में उचित सामंजस्य बनाकर रखने में मदद करेगा। स्थान परिवर्तन संबंधी योजनाओं को मूर्तरूप देने के लिए समय अनुकूल है। नेगेटिव - इस...

    और पढ़ें