पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शिक्षा का पायलट प्रोजेक्ट:सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले जरूरतमंद विद्यार्थियों को विभाग भामाशाहों को देगा गोद

डीग8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • निदेशक माध्यमिक शिक्षा ने जारी किए निर्देश, 10वीं व 12वीं में 80 प्रतिशत अंक हासिल करने वाले जरूरतमंद विद्यार्थियों की मांगी सूची

जिलेभर के सरकारी स्कूलों में पढऩे वाले जरूरतमंद विद्यार्थियों के लिए अच्छी खबर है। अब शिक्षा विभाग प्रतिभावान जरूरतमंद विद्यार्थियों को भामाशाहों गोद देगा, ताकि ऐसे विद्यार्थियों की पढाई में आर्थिक स्थिति बाधक ना बने। इस योजना की क्रियान्विति के लिए शिक्षा विभाग ने पायलट प्रोजेक्ट तैयार किया है।

प्रोजेक्ट की रूपरेखा तैयार की जा चुकी है इसे स्कूल खुलने के साथ ही लागू किया जाएगा। माध्यमिक शिक्षा निदेशक सौरभ स्वामी ने इस संबंध में संभागीय संयुक्त निदेशक स्कूल शिक्षा के साथ जिला शिक्षा अधिकारी भरतपुर, करौली, धौलपुर एंव सवाई माधोपुर को निर्देश पत्र जारी कर सत्र 2019-20 की दसवीं व बारहवीं में 80 प्रतिशत या इससे अधिक अंक लाने वाले आर्थिक रूप से कमजोर छात्र-छात्राओं की सूची मांगी है।

विभाग की ओर से ऐसे आर्थिक रूप से कमजोर प्रतिभावान विद्यार्थियों को अडाॅप्ट ए स्टूडेंट योजना के तहत भामाशाहों, दानदाताओं तथा सीएसआर गतिविधियों से जोडकर उन्हें गोद लेने को प्रोत्साहित किया जाएगा।

इस प्रोजेक्ट के तहत कमजोर आर्थिक स्थिति वाले विद्यार्थियों को काफी मदद मिलेगी। प्रतिभावान होने के बाद भी कई विद्यार्थी कमजोर आर्थिक स्थिति के कारण उच्च अध्ययन नहीं कर पाते हैं। ऐसे में उन्हें इस योजना के तहत संबल मिलने से उनकी प्रतिभा निखर सकेगी। यह योजना आर्थिक रूप से पिछडे उन विद्यार्थियों के लिए वरदान साबित हो सकती है जो प्रतिभावान हैं।

विद्यार्थियों को परिवार की पृष्ठभूमि का देना होगा विवरण
इस योजना से लाभांवित होने के लिए विद्यार्थी को प्रतिभावान होने के साथ साथ आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग का होना चाहिए। इस योजना के लिए इस बार बोर्ड परीक्षा 10वीं और 12वीं में उत्तीर्ण ऐसे विद्यार्थी को पात्र माना गया है जिसने बोर्ड परीक्षा में कम से कम 80 प्रतिशत अंक हासिल किए हों। विद्यार्थी को इस योजना से लाभांवित होने के लिए संस्था प्रधान के माध्यम से आवेदन करना होगा। जिसमें विद्यार्थी को अपने भविष्य की योजना तथा परिवार की पृष्ठभूमि का विवरण देना होगा। इन सूचनाओं को संस्था प्रधान की ओर से प्रमाणित कर सूचना सम्बन्धित संभागीय उपनिदेशक शिक्षा को भेजा जाएगा।

योजना में आर्थिक रूप से पिछडे़ प्रतिभावान बच्चों को मिलेगा संबल : कुंतल
^यह योजना आर्थिक रूप से पिछड़े प्रतिभावान विद्यार्थियों के लिए वरदान साबित होगी। योजना में समाज के अंतिम तबके के बालक को संबल मिलेगा। संस्था प्रधानों को तुरंत निर्धारित प्रपत्र में सूचना भेजने के लिए निर्देशित किया है ताकि कोई पात्र बालक वंचित न रहे।
प्रेमसिंह कुंतल, जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक मुख्यालय भरतपुर


खबरें और भी हैं...