डाटा स्टोरी:आंकड़ों में बेरोजगारी, 74979 रजिस्टर्ड, 6644 उठा रहे थे भत्ता, काम करने की बात आई तो 4613 ने नहीं किए आवेदन

डीग21 दिन पहलेलेखक: अमित शर्मा
  • कॉपी लिंक
बेरोजगारी भत्ता लेने के लिए युवा अब पहली बार अपने फील्ड और रुचि के अनुसार विभिन्न सरकारी विभागों में चार घंटे ड्यूटी देंगे। - Dainik Bhaskar
बेरोजगारी भत्ता लेने के लिए युवा अब पहली बार अपने फील्ड और रुचि के अनुसार विभिन्न सरकारी विभागों में चार घंटे ड्यूटी देंगे।

बेरोजगारी भत्ता लेने के लिए युवा अब पहली बार अपने फील्ड और रुचि के अनुसार विभिन्न सरकारी विभागों में चार घंटे ड्यूटी देंगे। लेकिन, इसमें रोचक पहलू ये है कि किसी भी सरकारी महकमे में कम से कम 4 घंटे काम करना पड़ता, इसलिए 70 प्रतिशत युवाओं ने बेरोजगारी भत्ते के लिए रुचि ही नहीं दिखाई। जिला रोजगार कार्यालय के मुताबिक स्थिति यह है कि जिले में 6644 लाभार्थी बेरोजगारों में से 2031 ही ऐसे हैं जिन्हें वास्तव में रोजगार की जरूरत है।

इनमें से फिलहाल डिमांड के मुताबिक 622 युवाओं की सूची जिला प्रशासन को सौंपी गई है। इन्हें अलग-अलग 12 विभाग अलॉट किए गए हैं। उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार ने 1 जनवरी से बेरोजगारी भत्ते के नियमों में बदलाव किया है। अब पात्र युवाओं को सरकारी‎‎ ऑफिस में रोज‎‎ बतौर इंटर्नशिप चार घंटे काम‎‎ करना होगा। इसके लिए कई कार्यालयों का चयन किया गया है। अगर बेरोजगार युवा किसी दिन बिना सूचना अनुपस्थित रहते हैं तो उनके भत्ते में कटौती की जाएगी।

रोजगार कार्यालय के सूचना सहायक दुष्यंत सिंह ने बताया कि अभी 622 युवाओं के लिए ही डिमांड मिली थी। विभागों से अन्य कर्मचारियों की डिमांड मिलते ही शेष वंचित बेरोजगार युवाओं को भी विभाग अलॉट कर दिए जाएंगे। इंटर्नशिप के लिए पेंडिंग 4588 बेरोजगार युवा अभी भी अपनी एसएसओ आईडी से सहमति दर्ज करा सकते हैं।

प्रदेश में 27% से ज्यादा है बेरोजगारी दर
सेंटर फॉर‎ मॉनीटरिंग इंडियन इकोनॉमी रिपोर्ट के मुताबिक प्रदेश में करीब 55% ग्रेजुएट्स बेरोजगार हैं। बेरोजगारी में राजस्थान देश में दूसरे नंबर पर है। यहां बेरोजगारी दर 27 प्रतिशत से ज्यादा‎ है। हरियाणा में 34 प्रतिशत है। इसलिए यहां कैंप लगाया गया।

जिले में 74979 हैं पंजीकृत युवा बेरोजगारः किला परिसर स्थित रोजगार कार्यालय के अनुसार जिले में 74979 बेरोजगार‎ युवा पंजीकृत हैं। इनमें से 6644 युवा अब तक बेरोजगारी भत्ता ले रहे थे। इनमें अनुसूचित जाति के 966, अनुसूचित जनजाति के 291, सामान्य 1402 और ओबीसी, अल्पसंख्यक एवं एसबीसी के 3985 युवा हैं।

खबरें और भी हैं...