पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बड़ी राहत:6 माह बाद खुले पटवारियों के बस्ते, अब म्यूटेशन और पैमाइस हो सकेगी

धौलपुर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
धौलपुर. हड़ताल खत्म होने के बाद खेत में पैमाइस करते पटावारी। - Dainik Bhaskar
धौलपुर. हड़ताल खत्म होने के बाद खेत में पैमाइस करते पटावारी।
  • राज्य में 15 जनवरी से चल रहा था अतिरिक्त हल्कों का बहिष्कार, जिले में 88 पटवार मंडलाें पर लगे थे ताले

जिले सहित प्रदेशभर में पटवारियों के प्रतिनिधिमंडल की सरकार से बनी सहमति के बाद सोमवार से पटवारियों के बस्ते खुल गए हैं। छह माह से पटवारी अतिरिक्त हल्कों का बहिष्कार कर रहे थे। इसके चलते जिले में 88 पटवार मंडलों पर छह माह से ताले लगे हुए थे। इनके बस्ते पटवारियों ने संबंधित तहसीलों में सौंप दिए थे।

अब जाकर इन बस्तों को सोमवार से खोला गया और अतिरिक्त हल्कों में भी कामकाज शुरू हुआ है। 6 माह से पटवार मंडलों का कार्य बहिष्कार करके बैठे प्रदेशभर के 5 हजार पटवारियों की हड़ताल खत्म हो गई जिससे अब उन्होंने हल्कों में कामकाज शुरू कर दिया है।

15 जनवरी से जिले के 88 व प्रदेश के करीब 5 हजार से अधिक पटवारी बस्ते बंद करके अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए थे। इसके चलते किसान जमाबंदी, गिरदावरी, नामांतरण, म्यूटेशन जैसे काम नहीं हा़े रहे थे। पटवार संघ के जिलाध्यक्ष रामनिवास ने बताया कि अब पटवारियों की हड़ताल समाप्त हो चुकी है। सभी पटवारी अपने काम पर लौट आए हैं।

बहिष्कार के कारण कई काम अटक रहे थे

पटवारियों के आंदोलन के खत्म होने से आमजन को बड़ी राहत मिली है। जहां गांवों में जमीनों की पैमाइश से लेकर नामांतरण खोलने जैसे काम अटके पड़े थे। शहरों में आमजन के जाति प्रमाण पत्र, ईडब्ल्यूएस सर्टिफिकेट, मूल निवास, गिरदावरी सहित अन्य कार्य नहीं हो पा रहे थे।

236 में से 88 पद रिक्त

जिला अध्यक्ष ने बताया कि जिले में पटवारियों के 236 पद स्वीकृत हैं। इनमें से 88 पद रिक्त चल रहे हैं, जबकि केवल 148 पद पर ही पटवारी कार्यरत हैं। ऐसे में एक ही पटवारी के पास दो से तीन-तीन पटवार सर्कल का कार्यभार है।

किसकाे क्या राहत मिलेगी

युवाओं के प्रमाण पत्र, नामांतरण जैसे काम होंगे।वर्तमान में विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के आवेदन मांगे जा रहे हैं। इसके चलते युवाओं को ईडब्ल्यूएस, जाति प्रमाणपत्र, मूल निवास प्रमाण पत्र के लिए भी पटवारी के पास जाना पड़ता है।

किसानों को यह मिलेगी राहत

पटवारियों की हड़ताल खत्म होने के बाद अब किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा का भी क्लेम मिलने में परेशानी भी दूर हाेगी। वहीं गिरदावरी भी समय पर हाेगी। इसके साथ ही म्यूटेशन भरने में भी समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा।

खबरें और भी हैं...