कॉलेज और ब्रज विवि आमने-सामने:बृज विश्वविद्यालय ने कोरोना की वजह से बिना परीक्षा पास किए थे प्रथम वर्ष के स्टूडेंट्स, 10वीं-12वीं बोर्ड परीक्षाओं के आधार पर तैयार होगा रिजल्ट

धौलपुर/भरतपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
धौलपुर और भरतपुर के 35 हजार स्टूडेंट्स का रिजल्ट अटका। - Dainik Bhaskar
धौलपुर और भरतपुर के 35 हजार स्टूडेंट्स का रिजल्ट अटका।

महाराजा सूरजमल बृज विश्वविद्यालय को प्रथम वर्ष के 35642 स्टूडेंट का रिजल्ट 30 सितंबर तक घोषित करना है। लेकिन, बुधवार तक इनकी अंकतालिकाएं बनाने की भी शुरुआत नहीं हुई। क्योंकि जिन्हें रिजल्ट बनाने की जिम्मेदारी सौंपी है, उन्होंने हाथ खड़े कर दिए हैं। लगभग सभी कॉलेज प्राचार्यों ने अंकतालिका के लिए नंबर भेजने से इनकार कर दिया है।

इसलिए भरतपुर और धौलपुर के करीब 35 हजार स्टूडेंट्स को रिजल्ट के लिए अभी महीने भर का इंतजार और करना पड़ सकता है। उल्लेखनीय है कि बृज विश्वविद्यालय ने कोरोना के कारण प्रथम वर्ष की परीक्षा नहीं कराई थीं। बल्कि प्रथम वर्ष के विद्यार्थियों को अगली कक्षा में प्रमोट कर दिया गया। इसलिए 10-12वीं के बोर्ड रिजल्ट के आधार पर प्रथम वर्ष का रिजल्ट तैयार करने का फैसला हुआ।

इसमें 10 वीं के अंकों का 40 प्रतिशत और 12 वीं के अंकों का 60 प्रतिशत वेटेज देना तय था। रिजल्ट तैयार करने की जिम्मेदारी विश्वविद्यालय ने कॉलेजों को सौंप दी। इसके लिए तर्क दिया कि स्टूडेंट्स की 10वीं और 12वीं की अंकतालिकाएं कॉलेजों में एडमिशन के समय जमा कराई जाती हैं। इसलिए कॉलेज कमेटी बनाएं और वेरिफिकेशन कर छात्रों का रिजल्ट तैयार करें।

विवि को 30 सितंबर तक घोषित करना था रिजल्ट, अब एक माह करना पड़ सकता है इंतजार

अंकतालिकाएं तैयार करना विवि की ड्यूटी : प्राचार्य

कालेजों ने विश्वविद्यालय के इस निर्णय को गलत बताया है। एमएसजे कॉलेज के प्राचार्य डॉ. विवेक शर्मा ने कहा कि अंकतालिकाएं तैयार करना विश्वविद्यालय का काम है। यह काम कॉलेजों पर जबरन डाला जा रहा है। जबकि कॉलेजों के पास और भी कई काम रहते हैं। संसाधनों की भी कमी है।

जबकि विश्वविद्यालय का काम परीक्षा कराना और परिणाम जारी करना ही है। राज्य सरकार की ओर से भी ऐसे कोई आदेश नहीं है। रहीं बात मार्कशीट की। इसका डेटा यूनिवर्सिटी के पास भी है। 10वीं और 12वीं के अंक सत्यापन के लिए विश्वविद्यालय को सीधे माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से ऑनलाइन डेटा मांगना चाहिए।

समझाइश से रास्ता निकालेंगे, विद्यार्थी थोड़ा इंतजार करें : परीक्षा नियंत्रक
बृज विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक डॉ. एके पांडे ने बताया कि कुछ कॉलेजों ने अंकतालिका तैयार करने पर आपत्ति जताई है। उन्हें प्रतिउत्तर पत्र भेजा गया है। चूंकि 10 वीं की अंकतालिका कॉलेजों के पास रहती है। इसलिए विश्वविद्यालय ने कॉलेजों को कमेटी बनाकर मार्कशीट तैयार करने को कहा था। धौलपुर समेत कुछ कालेजों ने कमेटी बनाई भी है। समझाइश से रास्ता निकल जाएगा। विद्यार्थियों को अंकतालिकाओं के लिए थोड़ा इंतजार करना होगा।

खबरें और भी हैं...