ठेका कर्मचारी के शव के साथ GSS पर प्रदर्शन:परिजनों ने की मुआवजे और सरकारी नौकरी की मांग, प्रशासन ने दिया 5 लाख का मुआवाज

धौलपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
परिजन 2 घंटे तक जीएसएस के बाहर शव लेकर बैठे रहे। मुआवजे के ऐलान और अन्य मांगों पर भरोसा देने के बाद शव लेकर गए परिजन। - Dainik Bhaskar
परिजन 2 घंटे तक जीएसएस के बाहर शव लेकर बैठे रहे। मुआवजे के ऐलान और अन्य मांगों पर भरोसा देने के बाद शव लेकर गए परिजन।

सैपऊ कस्बे में ठेका कर्मचारी की करंट से मौत मामले में मंगलवार को परिजनों और ग्रामीणों ने प्रदर्शन किया। पुलिस ने जिला अस्पताल में मृतक के शव का पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों को सौंप दिया। लेकिन परिजन शव लेकर जीएसएस ऑफिस पर पहुंच गए और ऑफिस के सामने शव को रखकर बिजली निगम के खिलाफ प्रदर्शन किया। परिजनों ने आश्रित को नौकरी और उचित मुआवजे की मांग की। परिजनों ने दोषी बिजली कर्मियों के खिलाफ भी कार्रवाई की मांग रखी। ऑफिस के मेन गेट के सामने शव रखकर बिजली कर्मचारियों के खिलाफ आक्रोश व्यक्त किया। परिजन 2 घंटे तक डेड बॉडी लेकर बैठे रहे। मामले में बिजली निगम और उपखंड प्रशासन दोनों ने अलग-अलग जांच शुरू कर दी है।

कस्बे में सोमवार देर शाम भीमसेन (35) पुत्र बैजनाथ हाई टेंशन लाइन पर मेंटेनेंस का काम कर रहा था। इस दौरान जीएसएस पर अज्ञात बिजली कर्मचारी ने शटडाउन ऑन कर दिया, जिससे भीमसेन झुलसकर कर नीचे गिर गया। जिसे नाजुक हालत में जिला अस्पताल रेफर किया था। यहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। स्थानीय पुलिस ने मंगलवार को परिजनों की मौजूदगी में शव का पोस्टमार्टम कराकर सौंप दिया, लेकिन परिजन डेड बॉडी को लेकर सैपऊ जीएसएस ऑफिस पर पहुंच गए। परिजनों ने उचित मुआवजे के साथ सरकारी नौकरी की मांग की। मामला बढ़ता देख एसडीएम ललित मीणा मौके पर पहुंचे और कलेक्टर से बात कर 5 लाख रुपए का मुआवजा तुरंत स्वीकार करा दिया। एसडीएम ने अन्य मांगों का भी परिजनों को भरोसा दिया है। एसडीएम की समझाने पर परिजन डेड बॉडी लेकर घर ले गए।

करंट आने से बिजली पोल से गिरा कर्मचारी, मौत:11 हजार केवी लाइन ठीक करते समय लगा झटका, तेज धमाके के साथ नीचे गिरा