पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bharatpur
  • Dholpur
  • Devotees Arrived Secretly Through Unpaved Roads In Dev Chhath Fair, On One Side The Police Used Force, On The Other Side They Themselves Were Seen Taking A Dip In The Lake.

श्रद्धालुओं को रोकना बना चुनौती:देव छठ मेले में रोक के बाद भी आ रहे श्रद्धालु,पुलिस को करना पड़ा बल प्रयोग,मुख्य रास्तों पर रोका तो,कच्चे रास्तों से चोरी-छिपे पहुंचे

धौलपुर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
श्रद्धालुओं को सरोवर पर आने से रोकती पुलिस। - Dainik Bhaskar
श्रद्धालुओं को सरोवर पर आने से रोकती पुलिस।

दो दिवसीय लक्खी मचकुंड मेले में रोक के बावजूद श्रद्धालुओं आ रहे है। मेले के दूसरे दिन रविवार को खास बात देखने को मिली। मेले में भीड़ को रोकने के लिए लगे पुलिसकर्मी खुद डुबकी लगाते हुए दिखे। मचकुंड को जाने वाले मुख्य रास्तों पर पुलिस बल तैनात किए जाने के बावजूद बड़ी संख्या में एमपी और यूपी से आए श्रद्धालु कच्चे रास्तों से होकर तीर्थराज सरोवर में पहुंच गए।

पुलिस ने बेरिकेटिंग लगाकर रोका
जिला प्रशासन ने मचकुंड मेला नहीं भरने का आदेश दिया था। इसके बावजूद मेला भरा गया। जिसमें राजस्थान के साथ ही मध्य प्रदेश व उत्तर प्रदेश से श्रद्धालु धौलपुर पहुंच रहे हैं। मचकुंड जाने वाले मुख्य रास्तों पर भारी पुलिस बल तैनात किए जाने के बावजूद श्रद्धालु कच्चे रास्तों से होकर तीर्थराज सरोवर में पहुंच गए। बड़ी संख्या में आ रहे लोगों को रोकना पुलिस के लिए भी चुनौती बन गया है। आज पुलिस को हल्का बल प्रयोग भी करना पड़ा है। कोतवाली थाना प्रभारी राजेशउ पाठक ने बताया कि मुख्य रास्तों पर बेरीकेटिंग लगा रखे हैं। मुख्य रास्तों पर श्रद्धालुओं को रोका गया है। इसके बाद भी कई श्रद्धालु कच्चे रास्तों से सरोवर पहुंच रहे हैं। वहां भी पुलिस बल तैनात करके लोगों को रोका जाएगा।

पुलिसकर्मी खुद स्नान करते नजर आए
मचकुंड मेला का आज दूसरा दिन है। रविवार को श्रद्धालुओं ने पूरे विधि-विधान से पूजा अर्चना कर आस्था की डुबकी लगाई। तड़के 5 बजे से लेकर अब तक हजारों की संख्या में श्रद्धालु तीर्थराज में डुबकी लगा चुके हैं। मेले में आ रहे लोगों को रोकने के लिए पुलिस को व्यवस्था में तैनात किया गया था। मजेदार बात रही कि पुलिसकर्मी खुद सरोवर में स्नान करते नजर आए।

आज ही किया था कालयवन का वध
धौलपुर शहर से 4 किलोमीटर दूर तीर्थराज मचकुंड पर 2 दिन का लक्खी मेला लगाया जाता है। मेले में प्रतिवर्ष लाखों श्रद्धालु तीर्थराज में डुबकी लगाने के लिए धौलपुर पहुंचते हैं। मान्यता है कि इस दिन भगवान श्री कृष्ण ने छल का प्रयोग करते हुए कालयवन राक्षस का वध किया था। जिस वजह से उनका नाम छलिया पड़ा। मान्यता है कि छठ के मौके पर नवविवाहित वर-वधू की कलंगी को तीर्थराज मचकुंड में प्रवाहित किया जाता है।

खबरें और भी हैं...