पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

यात्री नदारद, अब खाली दौड़ रहीं ट्रेनें:पहले धौलपुर से 250 यात्री चढ़ते थे, अब 3 से 4 ही

धाैलपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

करीब एक सप्ताह से ट्रेनाें में भी काेराेना की दूसरी लहर का असर साफ देखा जा सकता है। जिन ट्रेनाें में यात्रा के लिए वेटिंग का इंतजार करना पड़ता था और सीट नहीं मिलता थी, अब वहीं लंबे रूटाें की एसी, थ्री टायर टू टायर काेचाें की ट्रेनाें में सीटें इतनी हैं कि एक काेच में एक दाे व्यक्ति ही सफर करते देखे जा रहे हैं।

लाेगाें के मन में ऐसा खौफ बैठ गया है कि वे यात्रा करने से गुरेज कर रहे हैं। यात्री खुद ही यात्रा काे केंसिल कर रहे हैं। सवारियाें की संख्या कम होकर महज बीस फीसदी तक रह गई है। एक काेच में 72 सीट हाेती हैं, इसमें सात आठ यात्री ही देखे जा रहे हैं। वेंडर राजू, विशाल कहते हैं कि लाेग ट्रेनाें में सफर नहीं कर रहे हैं क्याेकि काेराेना की दूसरी लहर से लाेग बाहर यात्रा करने से घबरा रहे हैं।

वहीं बाहर की खाने पीने की चीजाें से भी डर रहे हैं। करीब दस दिन पहले तक ट्रेनाें के काेच एसी, सामान्य में यात्री खचाखच भरे रहते थे। सुबह सचखंड एक्सप्रेस, छत्तीसगढ़, महाकाैशल, श्रीधाम, नवयुग हिमसागर, हजरत निजामुद्दीन जबलपुर एक्सप्रेस, जीटी एक्सप्रेस, पंजाब मेल, झेलम एक्सप्रेस खाली चल रही हैं।

वैंडर्स का भी धंधा चौपट, यात्री नहीं आने से आर्थिक संकट में

वेंडर विशाल ने बताया कि यात्री न निकलने से चाय भी दिन में 20 से 25 चाय बिक पाती हैं। करीब 10 दिन से ये हालात बने हैं। इससे पहले तक दिन में लाेग ट्रेनाें में यात्र कर रहे थे, अब ताे बिल्कुल ही परहेज किया है। पहले दिन में 80 चाय एक वेंडर बेच देता था, लेकिन अब मुश्किल से 10 से 15 चाय ही बिक रही हैं। क्याेंकि ट्रेन के काेच खाली ही आते हैं। वहीं धाैलपुर से यात्रा करने वाले भी इन ट्रेनाें में यात्रा नहीं कर रहे हैं। इससे ये ट्रेन अपने तय समय पर स्टाॅप के बाद खाली ही गंतव्य के लिए निकलती हैं।

20 फीसदी ही यात्री कर रहे धौलपुर से सफर

धाैलपुर। 10 दिन पहले हर ट्रेन के धौलपुर स्टॉपेज पर 25 से 30 यात्री सफर करते थे, लेकिन अब एक दो या अधिकतम चार यात्री ही यहां से चढ़ते हैं। पहले जो गाडिय़ां चल रही हैं उनमें प्रतिदिन 200 से 250 यात्री चढ़कर सफर करते थे, लेकिन अब दिन में 15 से 20 यात्री ही धौलपुर से ट्रेनों में सफर के लिए आ रहे हैं।

खबरें और भी हैं...