पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बैठक का आयोजन:टीकाकरण को लेकर भ्रांतियां करें दूर, शत प्रतिशत लक्ष्य प्राप्ति के लिए बढाएं टीकाकरण: जायसवाल

धौलपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोविड वैक्सिनेशन की प्रगति को लेकर कलेक्टर राकेश कुमार जायसवाल की अध्यक्षता में बैठक आयोजित हुई। जिसमें जिला कलेक्टर ने टीकाकरण की प्रगति को लेकर अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए। बैठक के दौरान उन्होंने कहा कि पात्र लाभार्थियों टीकाकरण हेतु प्रेरित कर शत प्रतिशत लक्ष्य प्राप्ति के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि शहरी व ग्रामीण स्तर पर टीकाकरण सत्रों की संख्या बढ़ा कर अधिक से अधिक लोगों का टीकाकरण किया जाए।

आशा सहयोगिनियों,आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं तथा अन्य जनप्रतिनिधियों व सामाजिक संस्थाओं के माध्यम से लोगों में टीकाकरण को लेकर हो रही भ्रांतियों को दूर करने के निर्देश दिए। उन्होंने आमजन से अपील करते हुए कहा कि कोविड की दोनों ही वैक्सीन सुरक्षित है तथा कोरोना से बचाव हेतु कारगर है। सभी पात्र लाभार्थी जिनकी उम्र 18 वर्ष से अधिक है किसी भी टीकाकरण केंद्र पर जाकर वैक्सीन लगवा सकते हैं।

बैठक के दौरान उपखण्ड अधिकारी भारती भारद्वाज, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. गोपाल प्रसाद गोयल, डिप्टी सीएमएचओ डॉ. चेतराम मीणा, जिला प्रजनन एवं शिशु स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. शिव कुमार शर्मा सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

टीकाकरण के लिए ये रहेंगे पात्र लाभार्थी

उन्होंने बताया कि केवल गर्भवती महिलाओं को छोड़ कर 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी व्यक्ति टीकाकरण के लिए पात्र हैं। समस्त धात्री महिलाओं को जो शिशु को स्तनपान करवा रही है उनको कोविड-19 वैक्सीन लगाई जा सकती हैं। इसके अतिरिक्त कोविड पॉजिटिव व्यक्ति नेगेटिव होने के 84 दिन बाद वैक्सीन लगवा सकता है।

यदि किसी व्यक्ति को कोविड-19 वैक्सीन की प्रथम डोज लगाई गई है तथा निर्धारित समय द्वितीय डोज प्राप्त करने से पूर्व कोविड-19 संक्रमण होता है तो कोविड-19 से रिकवरी होने के 84 दिन की अवधि पूर्ण होने के बाद ही कोविड वैक्सीन लगाई जा सकती है। किंतु यदि किसी व्यक्ति को अन्य गम्भीर बीमारी के कारण चिकित्सालय अथवा आई.सी.यू. में भर्ती किया गया हो तो उन्हें 4 से 8 सप्ताह तक कोविड-19 वैक्सीन के लिए रुकना चाहिए।

मधुमेह, हृदय रोग या क्रॉनिकल डिजीज और गंभीर रोगों से ग्रस्त लोगों को स्वस्थ्य व्यक्ति की तुलना में कोरोना से जान गंवाने का खतरा कई गुना ज्यादा होता अतः उन्हें प्राथमिकता से वैक्सीन लगवानी चाहिए।

खबरें और भी हैं...