परीक्षा महंगी:9वीं और 11वीं का परीक्षा शुल्क ढाई गुना तक बढ़ा; प्रत्येक परीक्षार्थी को पहले देने पड़ते थे 10 रुपए, अब लगेगा 25 रुपए शुल्क

धौलपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

काेराेना में जहां सरकार अलग-अलग तरीके से लाेगाें काे राहत देने में लगी है, वहीं शिक्षा विभाग ने कमाई का नया जरिया निकाल लिया है। आगामी दिनाें में हाेने वाली 9वीं व 11वीं की परीक्षा महंगी कर दी है। निदेशालय ने सभी स्कूलाें से 25 रुपए प्रति स्टूडेंट लेना तय किया है। निदेशालय ने आदेश जारी करते हुए कहा है कि प्रति स्टूडेंट 25 रुपए के हिसाब से जमा कराए जाएं।

आपकाे बता दें कि निदेशालय द्वारा तय की गई यह फीस माैजूदा फीस का करीब ढाई गुना है। स्कूलाें काे अब तक 10 रुपए परीक्षा के देने हाेते थे। इसमें अर्द्धवार्षिक परीक्षा का शुल्क भी शामिल हाेता था। वर्तमान हालाताें में अर्द्धवार्षिक परीक्षाओं का आयाेजन ताे हुआ ही नहीं है, लेकिन स्कूलाें काे इसकी कीमत भी बढ़ाकर चुकानी पड़ेगी। यह पैसा निजी व सरकारी सभी स्कूलाें द्वारा जमा कराया जाएगा।

जिले में 9वीं व 11वीं कक्षा में निजी व सरकारी स्कूलाें के 40 हजार 281 विद्यार्थी परीक्षा में शामिल हाेंगे। विभागीय कार्यालय के अनुसार कक्षा 9 वीं में 24 हजार 348 एवं कक्षा 11 वीं में 15 हजार 933 विद्यार्थी परीक्षा में शामिल होंगे। ऐसे में यदि यह परीक्षा जिला स्तर पर हाेती ताे स्कूलाें से 15 लाख रुपए लिए जाते, लेकिन अब स्कूलाें काे 25 लाख रुपए जमा कराने हाेंगे।

शिक्षक संघ के नेताओं का कहना है कि शिक्षा विभाग काे साेचना चाहिए कि स्कूल पहले ही आर्थिक संकट से गुजर रहे हैं। उस पर इस तरह के आदेश गलत हैं। इससे बेहतर ताे परीक्षाएं जिला स्तर पर ही हाेती, ताे ठीक रहता। यहां ताे फीस की नाैबत आई हुई है उसके बाद परीक्षाओं के लिए यह बढ़ा हुआ पैसा लेना औचित्यहीन है। निदेशालय से जारी आदेशाें में कहा गया है कि जिला समान परीक्षा में कक्षा 9 व 11 के प्रश्नपत्र मुद्रण व वितरण के लिए कार्यालय पंजीयक काे नाेडल बनाया गया है।

खबरें और भी हैं...