पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

चक्का जाम:कृषि कानूनों के विरोध में किसानों ने तीन घंटे तक रखा हाइवे जाम

धौलपुर/बाड़ी20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मनियां और बाड़ी में डायवर्ट करके निकाला ट्रैफिक
  • विधायक रोहित बोहरा और गिर्राज मलिंगा बोले-कानून वापस ले केंद्र सरकार

राजधानी दिल्ली की अलग-अलग सीमाओं पर पिछले करीब 75 दिन से चल रहे किसान प्रोटेस्ट अब बढ़ता जा रहा है। किसान नेताओं एवं उनके संगठनों द्वारा 6 फरवरी को भारत चक्का जाम का ऐलान किया था। जिसका असर धौलपुर जिले में भी देखा गया।

जिले के एनएच तीन आगरा-ग्वालियर मार्ग पर दो घंटे और एनएच 11बी धौलपुर-करौली मार्ग पर तीन घंटे तक सैकड़ों की तादात में किसान नेताओं एवं संगठनों ने लामबंद होकर चक्काजाम कर दिया। तीन कृषि कानूनों के विरोध में केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर हंगामा किया। किसानों ने केंद्र सरकार द्वारा पारित किए गए कृषि विधेयकों को वापस लेने की मांग की। किसानों के चक्काजाम में बाड़ी विधायक गिर्राज सिंह मलिंगा और राजाखेड़ा विधायक रोहित बोहरा भी पहुंचे। बाड़ी उपखंड के सदर थाने के धोरा बाग के पास किसान सुबह से ही एकत्रित हो गए और धीरे-धीरे उनकी संख्या बढ़ने लगी। इस दौरान उन्होंने हाईवे पर ही फर्श बिछा लिए और विरोध प्रदर्शन करने लगे।

इस दौरान बाड़ी विधायक गिर्राज सिंह मलिंगा के धरना स्थल पर पहुंचने के बाद यातायात पूरी तरह रोक दिया गया। हाइवे के यातायात को प्रशासन द्वारा अन्य स्थानों से डायवर्ट किया गया। इस दौरान एंबुलेंस और अन्य आपातकालीन सेवाओं को बंद से दूर रखा गया। 3 घंटे तक किसानों ने जमकर विरोध-प्रदर्शन किया और केंद्र सरकार से कृषि के तीनों काले कानूनों को वापस लेने की मांग की।

किसानों ने बताया करीब 75 दिन से दिल्ली के गाजीपुर बॉर्डर सिंधु बॉर्डर एवं टिकरी बॉर्डर पर लगातार प्रोटेस्ट चल रहा है। लेकिन केंद्र सरकार किसानों से वार्ता नहीं कर रही है। किसानों ने आरोप लगाते हुए कहा केंद्र सरकार किसानों को कमजोर समझ रही है। धरना स्थल पर किसानों के समर्थन में पहुंचे बाड़ी विधायक गिर्राज सिंह मलिंगा धरना स्थल पर डटे रहे।

कृषि विधेयक अन्नदाता को बर्बाद करने के लिए बनाए गए : बोहरा
राजाखेड़ा विधायक रोहित बोहरा ने कहा कि देश की अस्सी फ़ीसदी आबादी खेती पर निर्भर रहती है। पिछले 6 वर्ष से अधिक समय हो गया। भारत सरकार का लैपटॉप प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कर रहे हैं। लेकिन सरकार की खराब पॉलिसी की बदौलत देश का किसान, मजदूर, मध्यम वर्ग एवं व्यापारी वर्ग पूरी तरह से बर्बादी के कगार पर पहुंच गया है।

लाॅकडाउन के दौरान केंद्र सरकार ने बिना सवाल-जवाब किए एवं बिना बहस किए तीनों बिलों को पारित कर दिया। तीनों कृषि विधेयक देश के अन्नदाता को बर्बाद करने के लिए बनाए गए हैं। केंद्र सरकार के पास विजन नाम की कोई चीज नहीं है। भारत सरकार ने देश में मंडियों को खत्म करने का काम किया है।

अन्नदाता बर्बादी की ओर, कांग्रेस का हाथ किसानों के साथ : मलिंगा
बाड़ी विधायक गिर्राज सिंह मलिंगा ने कहा कि केंद्र सरकार चंद कारपोरेट के हाथ में काम कर रही है। देश का अन्नदाता किसान बर्बादी के कगार पर पहुंच रहा है। लेकिन सरकार अहंकार एवं दंभ में बनी हुई है। कांग्रेस किसानों के साथ है और केंद्र के इन काले कानूनों का विरोध करती है, इन्हें तुरंत वापस लिया जाना चाहिए। जब तक किसान सड़क पर खड़ा है, कांग्रेस उसका हर स्थिति में साथ देगी।

केंद्र सरकार ऐसे कानूनों को लाकर देश को गर्त की ओर ले जा रही है। इससे ब्रांडेड कंपनियां और बाबा रामदेव जैसे कुछ लोग फायदा उठा रहे हैं और यदि ऐसे कानून लागू हो गए तो चंद लोगो को फायदा होगा। किसान बुरी तरह परेशान हो जाएगा।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने व्यक्तिगत रिश्तों को मजबूत करने को ज्यादा महत्व देंगे। साथ ही, अपने व्यक्तित्व और व्यवहार में कुछ परिवर्तन लाने के लिए समाजसेवी संस्थाओं से जुड़ना और सेवा कार्य करना बहुत ही उचित निर्ण...

    और पढ़ें