चंबल के बाद पार्वती उफान पर:1 महीने में दूसरी बार आंगई बांध का जलस्तर बढ़ा, 6 गेट खोले,धौलपुर के ज्यादातर गांव बाढ़ से प्रभावित

धौलपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सैपऊ कंचनपुर रपट पर चला पानी। - Dainik Bhaskar
सैपऊ कंचनपुर रपट पर चला पानी।

प्रदेश के दूसरे जिलों के बांधों के साथ कोटा बैराज से छोड़ा गया पानी धौलपुर के किसानों की बर्बादी लिख गया। अब जिले का आंगई बांध भी किसानों की मेहनत पर पानी फेरने के लिए तैयार है। शनिवार देर रात आंगई बांध भर जाने से 6 गेट खोलकर 8063 क्यूसेक पानी बाहर निकाला गया है। एक माह में दूसरी बार आंगई बांध के खोले जाने पर फिर से पार्वती नदी उफान पर है। गत 6 दिनों से धौलपुर जिले के अधिकांश गांव बाढ़ से प्रभावित हैं। फिलहाल 2 दिन तक अभी राहत मिलने की उम्मीद नजर नहीं आ रही है।
फसलों को नुकसान
पिछले 5 दिनों से जहां चंबल नदी में उफान की वजह से किसानों की फसल खराब हुई है। अब पार्वती नदी ने किसानों की चिंता को दोगुना कर दिया हैं। खेतों में पानी भरने से फसलें खराब होने की कगार पर हैं प्रशासन बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में पहुंचकर लोगों को राहत देने का काम कर रहा है।

सखवारा पुल,जिससे पार्वती नदी का पानी महज 2 मीटर नीचे
सखवारा पुल,जिससे पार्वती नदी का पानी महज 2 मीटर नीचे

सैपऊ कंचनपुर की रपट पर चला पानी
जिले के कस्बों को जोड़ने वाले कई रास्तों पर पानी रपट के ऊपर चलना शुरू हो चुका है। 6 दिन पूर्व आंगई बांध के खोले जाने पर धौलपुर बसेड़ी मार्ग की पुलिया क्षतिग्रस्त हो गई थी। एक बार फिर से पार्वती नदी का जल स्तर बढ़ जाने से सैपऊ कंचनपुर की रपट पर पानी आ गया है। सखवारा पुल से पार्वती नदी का पानी महज 2 मीटर नीचे है। एहतियात के तौर पर निचले इलाकों में पुलिस को तैनात किया गया हैं।

खबरें और भी हैं...