पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दो थानों और डीएसटी पुलिस ने एक साथ की कार्रवाई:कांग्रेस के पूर्व जिलाध्यक्ष का भाई सट्‌टेबाजी में गिरफ्तार, 2 घंटे में 9 सटोरिये पकड़े गए

धौलपुर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
धौलपुर. पुलिस गिरफ्त में पकड़े गए सटोरिए। - Dainik Bhaskar
धौलपुर. पुलिस गिरफ्त में पकड़े गए सटोरिए।

शहर में अवैध सट्टे के कारोबार से जुड़े सटोरियों में शनिवार देर शाम को उस समय हड़कंप मच गया, जब निहालगंज, कोतवाली थाना और डीएसटी पुलिस ने जगह-जगह दबिश दी। इस दौरान मदीना काॅलोनी, पुराना शहर, घंटाघर, पुराना डाकघर चौराहे स्थित कई स्थानों से 9 सटोरियों को गिरफ्तार किया है।

पुलिस ने सटोरियों के पास से करीब 3 लाख 17 हजार 400 रुपए बरामद किए हैं। पकड़े गए सटोरियों में एक कांग्रेस के निवर्तमान जिलाध्यक्ष का भाई भी शामिल है। पकड़े गए सटोरियों के खिलाफ मामला दर्ज कर कर लिया है।

एसपी केसर सिंह शेखावत ने बताया कि कई दिनों से शहर में जुए और सट्टे की शिकायतें मिल रही थी। जिसके बाद सीओ सिटी प्रवेंद्र महेला के निर्देशन में टीम गठित कर मुखबिर लगाए गए। मुखबिर की सूचना पर शनिवार शाम को मदीना काॅलोनी में दबिश दी गई और कुछ सटोरियों को मौके पर पकड़ा गया।

पकड़े गए सटोरियों से पूछताछ की गई तो उन्होंने एक-दूसरे के नाम बताने शुरू किए। जिसके बाद दोनों थानों की फोर्स और डीएसटी ने कई स्थानों पर दबिश देकर 9 सटोरियों को गिरफ्तार किया है। जिनमें निहालगंज थाना क्षेत्र से 5 सटोरियों से 283200 रुपए और कोतवाली थाना क्षेत्र से 4 सटोरियों से 30 हजार 180 रुपए बरामद हुए हैं।

पुलिस ने इन सटोरियों के खिलाफ की कार्रवाई
एसपी केसर सिंह ने बताया कि सुरेश पुत्र रामचरन लाल वैश्य निवासी शिवनगर पोखरा, हनिया उर्फ हनीफ पुत्र मुंशी मुसलमान निवासी दशहरा रोड, पप्पू उर्फ ब्रजकिशोर पुत्र राधाकृष्ण ब्राह्मण निवासी अजमेर सिंह का वाडा बजरिया, सिराज खांन पुत्र जमीलुद्दीन मुसलमान निवासी विवेकानन्द स्कूल के पीछे तलैया, महेश पुत्र रमेश वैश्य निवासी दशहरा रोड, आसिफ पुत्र भोलू खां मुसलमान निवासी मदीना कॉलोनी, अशोक कुमार जैन पुत्र भीकमसिंह जैन निवासी मामा भान्जे की कब्र के पास भामतीपुरा, हनीफ पुत्र अब्दुल गनी मुसलमान निवासी जाट वाली गली मदीना कॉलोनी और पंकज गुप्ता पुत्र त्रिवेन्द्र कुमार गुप्ता वैश्य निवासी विरजापाडा को गिरफ्तार किया गया है।

एसपी की कार्रवाई से पुलिस कर्मी शांत, नहीं चला राजनैतिक दबाव
शहर में सटोरियों के खिलाफ पहली बार बड़ी कार्रवाई को लेकर जहां हड़कंप मचा रहा, वहीं कांग्रेस के निवृतमान जिलाध्यक्ष के भाई की गिरफ्तारी के बाद राजनैतिक गलियारों में हलचल रही। निवृतमान जिलाध्यक्ष के भाई की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस कर्मी शांत रहे। वहीं एसपी की कार्रवाई से राजनैतिक दबाब भी नहीं चला।

बता दें कि 29 मई को भाजपा के कंचनपुर मंडल के महामंत्री मनोज गोस्वामी को अस्पताल निरीक्षण पर आए सांसद डाॅ.मनोज राजोरिया के साथ से पुलिस ने उठा लिया था। मामले में सांसद के साथ पूर्व विधायक और भाजपा के पदाधिकारियों ने पुलिस थाने पहुंच सर्किल अधिकारी से बात की थी और मामले में निष्पक्ष जांच के साथ मनोज गोस्वामी को छोड़े जाने की बात कही थी लेकिन पुलिस पर इसका कोई असर नहीं हुआ था। पुलिस ने आरोपी मनोज गोस्वामी को गिरफ्तार किया था।

राजनैतिक और सामाजिक संगठनों ने पुलिस को आरोपित करने का किया प्रयास
जिला पुलिस की कार्यप्रणाली पर कुछ लोग अपने निजी कारणों के आरोप-प्रत्यारोप करते हों, लेकिन पुलिस द्वारा की गई कार्रवाईयां पूरी तरह से जाति एवं राजनैतिक से परे आपराधिक स्थिति को दृष्टिगत को रखते हुए की जाने वाली प्रतीत होती हैं।

भले ही डकैत मुकेश ठाकुर गैंग के गुर्गे पर ताबड़तोड़ कार्रवाई कर उनको जेल की सलाकों के पीछे भिजवाया गया हो, या फिर डकैत केशव गुर्जर गैंग के शरणदाताओं, सहयोगियों पर की गई एक के बाद कार्रवाई से उसे अपनी पृष्ठभूमि से अपनी जान बचाने से छिपने पर मजबूर कर दिया गया हो। जब कहीं अपराध के कारण पुलिस ने कार्रवाई की हो तो राजनैतिक और सामाजिक संगठनों द्वारा पुलिस को आरोपित करने का प्रयास किया गया है।

खबरें और भी हैं...