खबर का असर:हाजीपुर में प्रसादी के लिए भीड़ जुटने पर निगरानी दल के 6 कार्मिकों को नोटिस, तीन दिन में देना होगा जवाब

धौलपुर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सैंपऊ के हाजीपुर गांव में स्थित बालाजी मंदिर पर आयोजित हुए भंडारे में हजारों की संख्या में भीड़ पहुंचने की भास्कर में खबर प्रकाशित होने के बाद जिला प्रशासन ने आंखे खोल ली है। जिला कलेक्टर राकेश कुमार जायसवाल ने गुरुवार को कोविड-19 की एसओपी की पालना के लिए लगाए गए निगरानी दल के कर्मियों की लापरवाही को माना और उन्हें कारण बताओ नोटिस भी जारी किया है।

कलेक्टर ने बताया कि निगरानी दल के सदस्यों भू अभिलेख निरीक्षक अजय सिंह जादौन, कुलदीप भट्ट, पटवारी सौरभ शर्मा, कुलदीप परमार, अरविन्द एवं राजकुमार का दायित्व था कि कोरोना की गाइडलाइन का पालना सुनिश्चित कराएं एवं पालना न होने की स्थिति में अपने उच्चाधिकारियों को अवगत कराना था, लेकिन नियुक्त कार्मिकों द्वारा अपने दायित्वों का पूर्ण रूप से निर्वहन न करते हुए लापरवाही बरती गई।

जिससे आयोजन में भारी संख्या में भीड़ एकत्रित हुई। इससे कोरोना संक्रमण का खतरा पैदा हुआ। ऐसे में निगरानी दल के कार्मिकों को नोटिस देते हुए तीन दिवस में जवाब प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं। जवाब नहीं देने पर उनके खिलाफ नियमानुसार आवश्यक कार्यवाही अमल लाई जाएगी। वहीं भंडारे के कार्यक्रम में शामिल हुए बाड़ी विधायक गिर्राज सिंह मलिंगा ने भी गुरुवार को प्रेस वार्ता करके सफाई दी है। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों के बुलावे पर वे भी कार्यक्रम में शामिल हुए थे।

खबरें और भी हैं...