पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

समस्या:सैंपऊ में सड़कों पर गोवंश का राज, राह चलते लोगों पर हमला कर घायल कर रहे

|सैंपऊ7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सैंपऊ.कस्बे के भरतपुर मार्ग को घेरे हुए खड़ा गोवंश। - Dainik Bhaskar
सैंपऊ.कस्बे के भरतपुर मार्ग को घेरे हुए खड़ा गोवंश।
  • पंचायत चुनावों में गोशाला निर्माण और सीसीटीवी कैमरे लगाने के किए थे वादे, अब एक साल बीत जाने के बाद भी नहीं ले रहे सुध

कस्बे में आवारा गोवंश की समस्या से निजात दिलाने के लिए गोशाला खोलने और आपराधिक वारदातों पर अंकुश लगाने के लिए बाजार और सार्वजनिक स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगवाने के चुनावी वायदे को एक वर्ष पूरा होने को है, लेकिन पंचायत एवं सरपंच द्वारा अभी तक दोनों कार्यों को लेकर उदासीनता बरती जा रही है। जिसके चलते कस्बे में आवारा गोवंश का जमावड़ा और आतंक बढ़ता ही जा रहा है।

उपखंड मुख्यालय की ग्राम पंचायत सैंपऊ के नागरिक पिछले एक वर्ष से ग्राम पंचायत प्रशासन एवं सरपंच की उदासीनता से खुद को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं। चुनाव के दौरान पंचायत की जनता को गोशाला और सीसीटीवी कैमरे समेत कई अन्य महत्वपूर्ण सुविधाएं उपलब्ध कराने के ख्वाब दिखा कर लोगों से वोट तो ले लिए, लेकिन कार्य के नाम पर ग्राम पंचायत के द्वारा अभी तक न तो उन्हें पूरा करने का प्रयास किया गया और न ही सफाई व्यवस्था एवं स्ट्रीट लाइट कार्य को यथावत रखा गया।

ग्रामीणों का आरोप है कि कस्बे की ज्यादातर सड़कों एवं तिराहे- चौराहे पर आवारा गोवंश का जमावड़ा लोगों को समस्या और हादसे का सबब बन रहा है। पिछले दो-तीन दिन से गोवंश के द्वारा राहगीरों के साथ कई दुर्घटना को अंजाम दिया जा चुका है। लोगों को उपचार के लिए स्थानीय अस्पताल से लेकर धौलपुर तक भर्ती कराना पड़ा है।

बावजूद इसके स्थानीय प्रशासन एवं ग्राम पंचायत द्वारा आवारा गोवंश को सड़कों एवं सार्वजनिक स्थान से हटाने के लिए कोई प्रयास नहीं किए गए हैं। लोगों ने बताया कि चुनाव के समय कस्बे में गोशाला खोलने और सीसीटीवी कैमरे लगाए जाने को लेकर सरपंच के द्वारा वोट मांगे थे, लेकिन चुनाव जीतने के बाद ग्राम पंचायत की जनता से किए गए सभी वादे हवा हो गए हैं।

कस्बे के भीम नगर, पहाड़िया बस्ती, पुराना बाजार, कोली मोहल्ला, बघेल बस्ती, कसाई मोहल्ला, कुम्हार वस्ती, जाटव बस्ती सहित बसई नवाब मार्ग पर रहने वाले नागरिकों ने बताया कि गोशाला और सीसीटीवी कैमरे लगाना तो दूर पूर्व में ग्राम पंचायत द्वारा लगाई गई स्ट्रीट लाइटों को भी अभी तक सही नहीं कराया गया है जिससे आधी से ज्यादा बस्ती में रात के समय अंधेरा रहता है वहीं मोहल्लों में साफ सफाई की व्यवस्था नहीं कराए जाने से चारों ओर कचरे एवं गंदगी के ढेर लगे रहते हैं। जबकि जनहित के तमाम कार्यों को कराने के लिए ग्राम पंचायत के पास एक करोड़ से ज्यादा का भारी भरकम बजट उपलब्ध है।

खेतों में लगी कंटीले तारों से जख्मी हो रहा गोवंश, चारा भी नहीं मिल रहा
खेती में आवारा गोवंश द्वारा नुकसान किए जाने से परेशान किसान के द्वारा कुछ बरसों से फसलों की रखवाली के लिए खेत की मेड़ों पर कटीले तार एवं झाड़ियां लगा दिए गए हैं। जिसके कारण आवारा गोवंश खेतों में घुसने पर कटीले तार और झाड़ियों से जख्मी हो रहा है, साथ ही खाने के लिए आसानी से चारा उपलब्ध नहीं होने की वजह से चिढ़चिढ़ा भी होता जा रहा है।

खेतों में चारा नहीं मिलने की स्थिति में बाजार के अंदर फल एवं सब्जी विक्रेताओं के द्वारा फेंकी जाने वाली खराब सामग्री खाने को मिलने की वजह से आवारा गोवंश बाजार एवं सार्वजनिक स्थानों पर ही कब्जा जमाए रहता है। ऐसे में बगल से निकलने वाले राहगीर एवं वाहन चालकों को अक्सर गोवंश के द्वारा ठोकर मारकर घायल किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...