पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मतदाता सूची:युवा मतदाता जागरूक होकर चुनाव में निभाएं अपनी भागीदारी मतदाता सूची में जुड़वाएं अपना नाम : कलेक्टर जायसवाल

धौलपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

चुनाव में मतदाताओं की अधिक से अधिक भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए मतदाताओं को जागरूक करने तथा 18 वर्ष पूर्ण कर चुके युवाओं का मतदाता सूची में नाम जुड़वाने के लिए स्वीप कार्यक्रम के तहत कलेक्टर राकेश कुमार जायसवाल की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक का आयोजन किया गया।

बैठक के दौरान उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में कोविड-19 की संक्रमण की स्थिति को देखते हुए सोशल मीडिया व अन्य वर्चुअल माध्यम से मतदाता जागरूकता गतिविधियों का आयोजन किया जाए। समाज के सभी वर्गों युवा, महिला मतदाता की मतदान करने के लिए सक्रिय सहभागिता जरूरी है। सभी वर्गों के लिए अलग-अलग उचित माध्यमों से जागरूकता अभियान चलाए जाने का कार्य किया जाए। किसी महत्वपूर्ण कार्यक्रम को विषय की थीम के आधार कार्यक्रमों से जोड़कर वोटर्स को वोट के महत्व से जोड़ा जा सकता है। उन्होंने मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए व्यापक प्रचार-प्रसार करने के निर्देश दिए।

उन्होंने कॉलेज में आने वाले विद्यार्थियों जो 18 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुके हो उनका ईएलसी क्लब के माध्यम से ऑनलाईन पंजीकरण करवाए। स्कूल तथा कॉलेजों में भी अधिक से अधिक अभियान चलाकर मतदाता सूची में नाम जुड़वाने में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें। उन्होंने छात्रा-छात्राओं को नवाचार के लिए प्रेरित करें कि वे अपना वोट जरूर देंगे। पोस्ट कार्ड में संदेश भेजकर भी माता-पिता एवं सगे संबंधियों को वोट देने के लिए अपील कर सकते हैं। मतदाता सूची में नाम जुड़वाने के लिए ऑनलाइन पोर्टल के बारे में भी उन्होंने विस्तार से जानकारी दी। रेडियो का उपयोग लोगों में जनजागरूकता का बहुत बड़ा माध्यम है। कम्युनिटी रेडियों स्टेशनों के माध्यम से प्रचार प्रसार करने तथा रैली, पोस्टर, सांस्कृतिक कार्यक्रम द्वारा लोगों में कोरोना महामारी के प्रति जागरूकता लाने के साथ साथ वोट के महत्व के संबंध में भी महत्वपूर्ण जानकारी उपलब्ध करवाई

जा सकती है। नुक्कड़ नाटकों के द्वारा लोगों को वोट डालने के लिए जागरूक करने का कार्यक्रमों का आयोजन कराना तथा वोट डालना क्यों महत्वपूर्ण है यह भागीदारी सुनिश्चित करने संबधी अन्य जानकारियां लोगों को संदेश के माध्यम से जागरूक किया जा सकता है । बस स्टेण्ड, रेलवे स्टेशन, हॉस्पिटल, कॉलेज, स्कूल्स, पार्क के आसपास तथा अन्य सार्वजनिक स्थानों जहां लोगों का आवागमन ज्यादा रहता है वहां सामजिक दूरी की पालना करते हुए जागरूक वोटर्स के कर्तव्यों के प्रति जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन तथा कोरोना महामारी से बचाव का संदेश दिया जा सकता है। उन्होंने गांव में नवविवाहित महिलाओं, 18 वर्ष आयु पूर्ण कर चुकी बालिकाओं का नाम मतदाता सूची में जुड़वाने हेतु आशासहयोगिनी, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, एएनएम आदि के माध्यम से जागरूक करने के निर्देश दिए। बीएलओ, शिक्षक तथा अन्य भी नए वोटर्स को मतदाता

सूची में नाम जुड़वाएँ। आयु व लिंग के आधार पर जिन बूथों पर पंजीकरण संख्या कम है उन बूथों का चिन्हीकरण कर कार्य में प्रगति में लाने के निर्देश दिए। उन्होंनेे कहा कि एक जागरूक मतदाता होने के नाते यह दायित्व है क्षेत्रों के मतदाता पंजीकरण कार्यालय जाकर मतदाता सूची में अपना नाम सुनिश्चित कर जांच लें। हालांकि निर्वाचन आयोग ने कई शहरों के मतदाताओं को अपना नाम मतदाता सूची में जांचने का विकल्प बतौर वेबसाइट और मोबाइल पर भी देना शुरू किया है। पंचायत सहायक के द्वारा गांव में कोई मतदाता मतदान से बंचित नहीं रहे। उन्होंने निर्वाचन के संबंध में चर्चा कर वोटर्स को वोट डालने के संबंध में जानकारियां प्रदान की।

खबरें और भी हैं...