खतरे का स्टेशन:मुंबई से रोज आती-जाती हैं 10 ट्रेनें यात्रियों की न जांच और न पूछताछ

भरतपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
स्टेशन पर बिना जांच के अंदर से आते लोग, बिना मास्क बैठे लोग। - Dainik Bhaskar
स्टेशन पर बिना जांच के अंदर से आते लोग, बिना मास्क बैठे लोग।
  • केरल और महाराष्ट्र समेत 7 राज्यों में दोबारा रोगी बढ़ने से प्रदेशभर में है अलर्ट, लेकिन, भरतपुर में ऐसी लापरवाही
  • नियम - यात्री ही ट्रेन आने से एक-डेढ़ घंटे पहले कर सकते हैं प्रवेश, लेकिन, यहां रोक-टोक नहीं

सात राज्यों में कोरोना रोगी फिर से बढ़ने को लेकर प्रदेशभर में अलर्ट है। एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशनों पर भी काफी सतर्कता बरती जा रही है। जयपुर और कोटा समेत ज्यादातर रेलवे स्टेशनों पर कंफर्म टिकट होने पर ही यात्रियों को ट्रेन आने से 1 घंटे पहले प्रवेश दिया जा रहा है। महाराष्ट्र और केरल से आने वाले यात्रियों के लिए सफर शुरू होने से 72 घंटे पहले की कोविड-19 जांच रिपोर्ट अनिवार्य कर दी गई है। इसके बावजूद भरतपुर रेलवे स्टेशन पर जबरदस्त लापरवाही देखने को मिल रही है।

भास्कर संवाददाता ने शुक्रवार को जब रियल्टी चैक किया तो पता चला कि यहां 24 घंटे मुख्य प्रवेश द्वार 2-3 कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है। लेकिन, वे न तो प्लेटफार्म की ओर जाने वाले किसी यात्री का टिकट देख रहे हैं और न ही मास्क। वे आने-जाने वालों से भी कोई पूछताछ नहीं कर रहे हैं। यहां तक कि यात्रियों की थर्मल स्कैनिंग तक नहीं हो रही है।

यह हाल तो तब है जब भरतपुर दिल्ली-मुंबई रेल मार्ग यानी महाराष्ट्र रूट पर है। इस रूट पर हर रोज मुंबई से करीब 10 ट्रेनें आती-जाती हैं। इनमें 600 यात्री उतरते-चढते हैं। चूंकि आगरा-अजमेर रूट भी यहीं से निकलता है। इसलिए इस रूट पर भी रोजाना लगभग 1800 यात्री विभिन्न ट्रेनों से उतरते-चढते हैं।
चिंता इसलिए, दो दिन में दोगुने हुए एक्टिव केस, एक नया रोगी मिला
चिंता इसलिए भी है, क्योंकि भरतपुर में बड़ी मुश्किल से कोरोना काबू हुआ था। लेकिन, दो दिन में ही एक्टिव केसों की संख्या दोगुनी हो गई। गुरूवार को 17 जनवरी के बाद 8 नए केस सामने आए। इससे पहले 7 ही एक्टिव केस थे। शुक्रवार को भी 1 नया रोगी सामने आया है। शुक्र है कि हमारे यहां अभी कोरोना का नया स्टेन अभी डिटेक्ट नहीं हुआ है। लेकिन, जिस तरह मास्क लगाने में लापरवाही बरती जा रही है।

अब नेगेटिव जांच रिपोर्ट जरूरी : जिला कलेक्टर
गृह विभाग के आदेशों के बाद अब जिला कलेक्टर नथमल डिडेल ने भी भरतपुर में महाराष्ट्र और केरल से आने वालों के लिए कोविंड-19 की नेगेटिव जांच रिपोर्ट जरूरी कर दी है। यह रिपोर्ट सफर शुरू होने से 72 घंटे पहले की होनी चाहिए। संबंधित एसडीएम और पुलिस अधिकारी इसकी निगरानी करेंगे।

सघन चैकिंग होगी, रिपोर्ट नहीं होने पर आइसोलेट करेंगे: सीएमएचओ

  • महाराष्ट्र और केरल से आने वाले लोगों की सघन चेकिंग की जाएगी। उनकी हिस्ट्री देखने के साथ ही थर्मल स्केनिंग भी कराई जाएगी। कोरोना जांच रिपोर्ट नेगेटिव नहीं होने पर उन्हें आइसोलेट किया जाएगा। इसके लिए रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड पर मेडिकल टीमें लगाई जाएंगी। - डॉ कप्तान सिंह, सीएमएचओ

रेलवे प्लेटफार्म पर यात्रियों को भी सतर्कता बरतनी चाहिए : सीपीआरओ

  • रेलवे प्लेटफार्म पर बिना मास्क वाले किसी भी व्यक्ति को अनुमति नहीं है। कन्फर्म टिकट वाले यात्रियों को ही ट्रेन आने के कुछ समय पहले प्लेटफार्म पर जाने की अनुमति है। इसे चैक करने के लिए मैन गेट पर स्टाफ बिठाया गया है जो 24 घंटे ड्यूटी कर रहा है। लेकिन,यात्रियों को खुद भी सतर्कता बरतनी चाहिए। - अजय कुमार पाल, सीपीआरओ कोटा मंडल
खबरें और भी हैं...