पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नगर निगम का दावा:शहर से अब तक 1132 बंदर पकड़े गए, कांग्रेस पार्षद का आरोप कागजों में ही पकड़े जा रहे हैं बंदर

भरतपुर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
चिकित्सा राज्यमंत्री सुभाष गर्ग और उच्चाधिकारियों को इसकी शिकायत की जाएगी। - Dainik Bhaskar
चिकित्सा राज्यमंत्री सुभाष गर्ग और उच्चाधिकारियों को इसकी शिकायत की जाएगी।

नगर निगम ने दावा किया है कि विशेष अभियान के तहत शहर में अलग- अलग स्थानों पर आधा दर्जन से अधिक जाल लगा कर अब तक 1 हजार 132 बंदर पकड़े जा चुके हैं। वहीं इस दावे पर कांग्रेस पार्षद संजय शुक्ला ने सवाल उठाते हुए कहा है कि केवल कागजों में ही बंदर पकड़े जा रहे हैं। वास्तविकता में एक भी बंदर शहर से कम नहीं हुआ है।

निगम आयुक्त डाॅ. राजेश गोयल ने बताया कि उत्पाती बंदरों की परेशानी से निजात दिलाने के लिए सभी सफाई जोन मुख्यालयों पर जरूरत के अनुसार जाल लगाकर बंदर पकड़ने का काम शुरू कर दिया गया है। बुधवार को किला स्थित बिहारी जी मंदिर, अग्रवाल नर्सिंग होम, आरडी गर्ल्स काॅलेज, अरोड़ा हॉस्पिटल के पीछे, नदिया मौहल्ला, भैरो बाबा मंदिर, यदुराज नगर, गुरू द्वारा पोस्ट ऑफिस, गंगा मंदिर, गांधी पार्क, रेल्वे स्टेशन स्थित अनाज गोदाम, नगर निगम के पीछे, नेशनल एकेडमी स्कूल के पास जाल लगाए गए। इनके जरिए बंदरों को पकड़ा जा रहा है। गुरूवार को वार्ड नंबर 21 में आरोग्य धाम जोन, सेवर फोर्ट परिसर, नगर निगम के पीछे और आरडी गर्ल्स कालेज के पास जाल लगाकर बंदर पकड़े जाएंगे।

इधर, बंदर पकड़ने की लगातार मांग उठाते रहे कांग्रेस पार्षद संजय शुक्ला ने 1100 से ज्यादा बंदर पकड़ने के दावे को हास्यास्पद बताया है। संजय शुक्ला ने कहा कि उन्होंने पहले भी कहा था कि बंदर पकड़ने वाले ठेकेदार को बुलवाकर शहर में चिन्हित 10 जगहों पर एक साथ जाल लगवाए जाएं। जिससे एक साथ अनेक बंदर पकड़े जा सकें। लेकिन, आज तक उन जगहों पर जाल नहीं लगे हैं। इसलिए बंदर पकड़ने वाले ठेकेदार के साथ अफसरों की मिलीभगत की आशंका है। चिकित्सा राज्यमंत्री सुभाष गर्ग और उच्चाधिकारियों को इसकी शिकायत की जाएगी।

खबरें और भी हैं...