पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

निकाय चुनाव:3 मंत्रियों, सांसद और पांच एमएलए समेत 15 नेताओं का सियासी कद तय करेंगे नपा चुनाव

भरतपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 8 नगर पालिकाओं के लिए निकली आरक्षण लाॅटरी, भाजपा के लिए अपना कस्बाई वोट बैंक बचाना बड़ी चुनौती

नगरीय निकाय चुनाव का बिगुल बज चुका है। मंगलवार को जिले की 8 नगर पालिकाओं के लिए आरक्षण लाटरी भी निकाली जा चुकी है। इसके साथ ही चुनावी सरगर्मियां शुरू हो गई हैं। आरक्षण स्थिति पता चलते ही चुनाव लड़ने का मंसूबा पाले नेता एक्टिव हो गए हैं।

लेकिन इनसे ज्यादा चुनौती जिले के मंत्रियों, सांसद, विधायक और 15 बडे़ नेताओं के सामने होगी। क्योंकि ये नगर पालिका चुनाव उनका अगला राजनीतिक करियर भी तय करेंगे। क्योंकि पिछले दिनों आए सियासी संकट के बाद कांग्रेस को जहां अंदरूनी खटास का सामना करना पड़ सकता है।

वहीं भाजपा को भी अपना वजूद बचाए रखने के लिए जोर लगाना होगा और अपने कस्बाई प्रभाव एवं वोट बैंक को बचाना बड़ी चुनौती होगी। भाजपा के पास जिले के 8 में से 4 बोर्ड थे। लेकिन, डीग की अध्यक्ष मोनिका मथुरिया ने बाद में गहलोत सरकार बनते ही कांग्रेस का दामन थाम लिया था।

ये नगरपालिका चुनाव कई नेताओं का सियासी कद तय करेंगे। जिला प्रभारी डॉ. महेशचंद जोशी, चिकित्सा राज्यमंत्री डॉ. सुभाष गर्ग एवं राज्यमंत्री भजनलाल जाटव, भाजपा सांसद रंजीता कोली और जिलाध्यक्ष डॉ. शैलेष सिंह पर सभी 8 निकायों में पार्टी का बोर्ड बनाने की बड़ी जिम्मेदारी रहेगी।

डीग और कुम्हेर निकायों में पूर्व मंत्री विश्वेंद्रसिंह और भाजपा जिलाध्यक्ष डॉ. शैलेषसिंह, कामां में विधायक जाहिदा खान और पूर्व मंत्री जवाहर सिंह बेढ़म, नगर में विधायक वाजिब अली और पूर्व विधायक अनीता सिंह, नदबई में विधायक जोगेंद्र सिंह अवाना और पूर्व मंत्री कृष्णेंद्र कौर, बयाना में विधायक अमर सिंह एवं ऋतु बनावत, वैर और भुसावर नगरपालिका में मंत्री भजनलाल जाटव और पूर्व सांसद रामस्वरूप कोली की इज्जत दांव पर लगी है।

मौजूदा बोर्डों को बचाना भाजपा-कांग्रेस के लिए चुनौती
कुम्हेर, डीग, वैर और नगर में कांग्रेस, कामां, बयाना और नदबई में भाजपा एवं भुसावर में निर्दलीय बोर्ड हैं। कांग्रेस को भी बोर्ड बनाने के लिए काफी जोर लगाना होगा। क्योंकि निकाय चुनाव सरकार के प्रति जनता का फीडबैक का पैमाना माना जाता है। चूंकि भाजपा का शहरी मतदाताओं में अधिक प्रभाव रहता है।

इसलिए भाजपा नेताओं को भी बोर्ड बनवाने में पूरा दमखम लगाना होगा। परिणाम ही तय करेंगे कि संगठन की कमान सही हाथों में है या नहीं। कांग्रेस में अभी मंत्रीमंडल विस्तार और राजनीतिक नियुक्तियां होनी है। यह चुनाव बसपा में भी प्रदेशाध्यक्ष भगवानसिंह बाबा का राजनीतिक भविष्य तय करेंगे।

तैयारी, विधानसभा की सूची से होंगे चुनाव
चुनाव दिसंबर में प्रस्तावित हैं। इनके अध्यक्ष की आरक्षण लाटरी नगर निगम एवं प्रदेश की अन्य नगर पालिकाओं के साथ पहले ही निकाली जा चुकी है। चुनाव विधानसभा की अंतिम मतदाता सूची के आधार पर होंगे। चुनाव शाखा प्रभारी हेमंत कुमार शर्मा ने बताया कि ई सूची पर सूचना 18 अक्टूबर तक अपलोड की जाएगी।

निर्वाचक नामावलियों का प्रारूप प्रकाशन 30 अक्टूबर को, विशेष अभियान एक नवंबर और दावे एवं आक्षेपों को 5 नवंबर तक सुना जाएगा। निस्तारण 11 नवंबर तक होंगे और पूरक सूचियां 14 नवंबर को तथा अंतिम प्रकाशन 16 नवंबर को किया जाएगा।

भरतपुर जिले की नगर पालिकाओं में वार्डवार आरक्षण की स्थिति

नदबई : वार्ड 1, 4, 9, 11, 25 ओबीसी, 12, 13, 14, 16, 17 एससी, 2, 7, 8, 22, 31, 32, 35 महिला, 6, 10, 15, एससी महिला, 29, 30 ओबीसी महिला तथा 3, 18, 19, 20, 21, 23, 24, 26, 27, 28, 33, 34 सामान्य।
भुसावर : वार्ड 13, 17, 24 ओबीसी, 5, 7, 10, 23 एससी, 8, 9, 14, 18 महिला, 2, 21 एससी महिला, 20, 25 ओबीसी महिला, 11 एसटी तथा 1, 3, 4, 6, 12, 15, 16, 19, 22 सामान्य ।
कुम्हेर : वार्ड 7, 10, 20 ओबीसी, 12, 21, 22, 23, 24 एससी, 1, 6, 15, 16 महिला, 11, 19, 25 एससी महिला, 5 ओबीसी महिला तथा 2, 3, 4, 8, 9, 13, 14, 17, 18 सामान्य।
बयाना : वार्ड 11, 22, 24, 27, 29 ओबीसी, 4, 5, 6, 17, 20 एससी, 1, 3, 8, 15, 25, 26, 35 महिला, 10, 18, 19 एससी महिला, 28, 30 ओबीसी महिला तथा 2, 7, 9, 12, 13, 14, 16, 21, 23, 31, 32, 33, 34 सामान्य।
नगर : वार्ड 8, 17, 18, 19, 28 ओबीसी, 10, 11, 13, 29, 30 एससी, 1, 3, 4, 9, 22, 34, 35 महिला, 25, 26, 27 एससी महिला, 6, 31 ओबीसी महिला तथा 2, 5, 7, 12, 14, 15, 16, 20, 21, 23, 24, 32, 33 सामान्य।
वैर : वार्ड 1, 7, 11 ओबीसी, 8, 18, 20 एससी, 2, 3, 4, 10, 22 महिला, 16, 17 एससी महिला, 21, 25 ओबीसी महिला तथा 5, 6, 9, 12, 13, 14, 15, 19, 23, 24 सामान्य।
डीग : वार्ड 2, 7, 23, 34, 38 ओबीसी, 6, 9, 20, 24, 27, 32, 36 एससी, 4, 5, 12, 21, 29, 35, 37 महिला, 19, 26, 39 एससी महिला, 30, 31, 40 ओबीसी महिला तथा 1, 3, 8, 10, 11, 13, 14, 15, 16, 17, 18, 22, 25, 28, 33 सामान्य।
कामां : वार्ड 1, 15, 16, 23, 24 ओबीसी, 18, 26, 35 एससी, 6, 11, 17, 21, 25, 27, 33 महिला, 2, 3 एससी महिला, 7, 13 ओबीसी महिला, 4 एसटी तथा 5, 8, 9, 10, 12, 14, 19, 20, 22, 28, 29, 30, 31, 32, 34 सामान्य।

खबरें और भी हैं...