इसीलिए बेटियों पर गर्व है:256 किमी. साइकिल चला दादी से मिलने डहरा मोड आई 17 वर्षीया आरती

भरतपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

महिलाओं की ताकत को कमतर मत आंकिए...यह कहना है 17 साल की आरती का। गुरुवार को वह एक ही दिन में 256 किलोमीटर साइकिल चलाकर अकेली जयपुर से भरतपुर और भरतपुर से डहरा मोड अपनी दादी से मिलने पहुंची। हुआ ये कि जयपुर में गोपालपुरा पर रहने वाली आरती प्रजापति को पता चला कि उसकी दादी लज्जा देवी बीमार हैं। इसलिए उसने जयपुर-आगरा नेशनल हाइवे स्थित नदबई तहसील के डहरा मोड तक साइकिल से अकेले ही आने का फैसला किया।

हालांकि मां ने समझाया कि दशहरा के बाद चलेंगे। लेकिन, आरती बाेली-मैं तो कल सुबह ही जाऊंगी। इसलिए सुबह 4.30 बजे साइकिल उठाई और दादी से मिलने निकल पड़ी। रास्ते में पता चला कि दादी भरतपुर पहुंच गई हैं। इसलिए आरती सीधे भरतपुर आई। यहां आने के बाद पता चला कि दादी तो वापस डहरा मोड चली गई है। इसलिए वह वापस साइकिल से ही डहरा मोड गई। आरती ने बताया कि वह साइकिल से डहरा मोड पहुंचकर दादी को सरप्राइज देना चाहती थी।

इसलिए बताया नहीं कि वह साइकिल से आ रही है। वैसे भी मुझे अपना साइकिलिंग का जुनून परखना था। दादी को जब पता चला कि मैं जयपुर से साइकिल चलाकर अकेली मिलने आई हूं तो उनकी आंखों में आंसू आ गए। यह पल मेरे लिए कोई बडा मैडल मिलने जैसा था। दादी मेरे इरादों से वाकिफ हैं, इसलिए बहुत ज्यादा चिंतित नहीं हुईं। क्योंकि मैं जो ठान लेती हूं उसके कर दिखाती हूं।

खबरें और भी हैं...