पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मेडिकल हब के रूप में डवलप हो रहा भरतपुर:संभाग के पहले 100 बेड के आयुर्वेद, योग और प्राकृतिक चिकित्सा कॉलेज में प्रवेश अक्टूबर से

भरतपुर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
इस हॉस्टल में चलेगा कॉलेज। - Dainik Bhaskar
इस हॉस्टल में चलेगा कॉलेज।
  • प्राइवेट सेक्टर भी यहां मेडिकल कॉलेज खोलने की तैयारी में..अब

मेडिकल के क्षेत्र में भरतपुर को एक और बड़ी उपलब्धि होने जा रही है। भरतपुर में 100 बेड का आयुर्वेद, योग एवं नेचुरोपैथी महाविद्यालय अगले माह प्रारंभ हो जाएगा। प्रथम चरण में सत्र 2021-22 से योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा संकाय प्रारंभ हो जाएगी। इसकी कवायद तेजी से जारी है। इसमें 40 बेड लगाए जाएंगे। इसके अलावा शिक्षण कार्य के लिए मथुरा बाईपास रोड स्थित अंबलिकिंग हॉस्टल को दो साल के लिए किराये पर लिया जा रहा है।

आयुर्वेद काॅलेज के लिए 10 एकड़ जगह की डिमांड की गई थी। इसके मुताबिक नगर विकास न्यास ने 8.8 एकड़ जमीन सेक्टर 13 में अलाॅट की है। इसका प्रस्ताव बना कर फाइल यूडीएच को भेजी गई है। आयुर्वेद एवं भारतीय चिकित्सा विभाग ने उदयपुर से प्रो. जितेंद्र कुमार शर्मा को प्राचार्य, उपनिदेशक आयुर्वेद वैद्य मुकुटबिहारी शर्मा तथा वैद्य चंद्रप्रकाश दीक्षित को कार्यवाहक अधीक्षक लगाया है।

यूआईटी ने 8.8 एकड़ जमीन सेक्टर-13 में मंजूर की, फाइल यूडीएच को भेजी

एलोपैथी मेडिकल कॉलेज पहले से चल रहा
भरतपुर मेडिकल हब की तरह विकसित होने की ओर है। एलोपैथी का मेडिकल कालेज पहले से ही संचालित है। इसमें पीजी की सीट भी आवंटित हो गई हैं। डहरा मोड पर भी निजी क्षेत्र का मेडिकल कालेज का निर्माण कार्य प्रारंभ हो गया है। प्राइवेट क्षेत्र में तीन नए बडे़ हास्पिटल जल्द प्रारंभ होने जा रहे हैं।

अब आयुर्वेद, योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा भी प्रारंभ होगी। भरतपुर गोल्डन ट्राइंगल पर है। आगरा, मथुरा, दिल्ली की निकटता तथा केवलादेव राष्ट्रीय पक्षी उद्यान के कारण सैलानी एवं रोगी सहजता से मिल जाएंगे। उल्लेखनीय है कि जिले में 160 आयुर्वेद चिकित्सालय हैं।

इस सत्र से शुरू होंगे प्रवेश : गर्ग
आयुर्वेद कालेज में प्रवेश प्रकिया इस सत्र से प्रारंभ हो जाएगी। प्राचार्य सहित अन्य पदों पर नियुक्ति जारी है। योग एवं प्राकृतिक संकाय की 40 सीटों पर प्रवेश इस सत्र से मिलेगा, जबकि आयुर्वेद संकाय की 60 सीटों पर प्रवेश अगले सत्र 2022-23 में एडमिशन प्रक्रिया होगी। जमीन आवंटन का काम चल रहा है। अस्थाई व्यवस्था मथुरा बाईपास हॉस्टल भवन और सिटी औषधालय में की गई है।
-डॉ. सुभाष गर्ग, चिकित्सा राज्य मंत्री

60 सीट आयुर्वेद और 40 प्राकृतिक चिकित्सा की
आयुर्वेद, योग एवं नेचुरोपैथी महाविद्यालय 100 सीट का होगा, जिसमें 60 सीट आयुर्वेद की तथा 40 सीट योग/प्राकृतिक चिकित्सा की है। प्रथम चरण में सत्र 2021-22 से योग/प्राकृतिक चिकित्सा में प्रवेश दिया जाएगा। संभावना है कि अगले माह स्टूडेंट अलाॅट हो जाएंगे। इसलिए काॅलेज प्रबंधन तेज गति से 40 बेड का हाॅस्पिटल चालू करना चाहता है।

इसके लिए सिटी औषधालय बेड एवं संसाधन जुटाए जा रहे हैं। अशैक्षणिक कार्य भी सिटी औषधालय द्वारा किया जाएगा। काॅलेज में स्त्री, काय, कौमार्य भ्रत, योग, प्राकृतिक, पंचकर्म, रसायन आदि फैकल्टी रहेगी। इसके बनने से भरतपुर के अलावा संभाग के अन्य जिलों व पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश और हरियाणा के मरीजों को फायदा होगा।

खबरें और भी हैं...