पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बीजेपी नेताओं और पुलिस के बीच धक्का-मुक्की:आईजी ऑफिस के अंदर जाने पर पुलिस ने रोका, राजेंद्र राठौड़ बोले-प्रदेश में अपराधी बेख़ौफ़ और पुलिस बेबस

भरतपुर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बीजेपी कार्यकर्ताओं और पुलिस � - Dainik Bhaskar
बीजेपी कार्यकर्ताओं और पुलिस �

भरतपुर संभाग में बिगड़ रही कानून व्यवस्था को लेकर आज बीजेपी ने नेताओं और संभाग के तीनों सांसदों ने संभागीय आयुक्त कार्यालय के पास धरना-प्रदर्शन किया। जब बीजेपी के नेता और कार्यकर्त्ता ज्ञापन देने के लिए आईजी ऑफिस में जाने लगे तभी पुलिस और बीजेपी नेताओं में आईजी ऑफिस के गेट पर जमकर धक्का मुक्की हुई।

बीजेपी नेता आईजी कार्यालय के अंदर जाने की जिद पर अड़े रहे। लेकिन पुलिस और बीजेपी नेताओं के बीच लगातार धक्का मुक्की होती रही जिसके बाद सिर्फ 11 बीजेपी के नेताओं को ही अंदर जाने की अनुमति मिली। जिसके बाद बीजेपी के वरिष्ठ नेता राजेंद्र राठौर, भरतपुर सांसद रंजीता कोली, धौलपुर करौली सांसद मनोज राजोरिया, सवाई माधोपुर सांसद सुखबीर सिंह जौनपुरिया सहित कई नेता आईजी प्रसन्न सिंह खमेसरा से मिले और संभाग में बढ़ते अपराध को लेकर ज्ञापन दिया।

राजेंद्र राठौर ने राज्य सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा की जब से गहलोत सरकार आई है तब से प्रदेश में अपराधी बेख़ौफ हैं और पुलिस बेबस है। पुलिस के आंकड़ों के हिसाब से पिछले सालों के मुकाबले अपराध की संख्या बढ़ी है। और भरतपुर संभाग अपराध और अपराधियों की ऐशगाह बन गया है।

भरतपुर की सांसद रंजीता कोली पर हुए हमले के बदमाशों का पुलिस कोई सुराग नहीं जुटा पाई है। साथ ही डॉक्टर दंपती के हत्यारे भी अभी तक पुलिस की पकड़ में नहीं आये हैं। पुलिस का ये राजनीति करण सरकार को ले डूबेगा। संभाग में अब आम आदमी दहशत में जी रहा है। और भरतपुर के विधायक और सरकार के राज्य मंत्री कहते हैं की हर गलती सज़ा मांगती है। चिकित्सा राज्य मंत्री सुभाष गर्ग गैर जिम्मेदाराना बातें करते है जिसका जितनी निंदा की जाए उतना कम है।

राज्य सरकार जब चारों तरफ से घिरना शुरू हो जाती है तो राज्य सरकार कई तरह के हथकंडे अपनाती है। जब राज्य सरकार के उपमुख्यमंत्री ने सरकार को चुनौती दी थी तब सरकार ने वीडियो और टेलीफोन का कारण बताकर उन पर राजद्रोह का मुकदमा दर्ज किया था। अब जयपुर महापौर के निलंबन के ख़िलाफ़ पूरे राजस्थान में आवाज़ उठने लगी तो सरकार वीडियो के माध्यम से राज्य सरकार कहीं का अंश कहीं जोड़ कर कोशिश कर रही है की उन्हें बदनाम किया जाए।

खबरें और भी हैं...