पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आदेश:रूट पर जाने से पहले रोडवेज चालकों की ब्रिथ एनेलाइजर से होगी जांच, शराब के नशे में मिले तो होगी कार्रवाई

भरतपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • रोडवेज कार्यशालाओं में सुरक्षा निर्देशों की सख्ती से पालना करने के निर्देश

अब रूट पर जाने से पहले प्रत्येक चालक की कार्यशाला में ब्रिथ एनेलाइजर से जांच की जाएगी। अगर वह जांच के दौरान नशे में मिला तो उसके खिलाफ कार्रवाई होगी। इसके अलावा प्रत्येक कर्मी को अग्निशमन यंत्र चलाने का विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा। इस संबंध में रोडवेज के सीएमडी नवीन जैन ने बताया कि आगार कार्यशालाओं में सुरक्षा निर्देश जारी किए हैं।

सीएमडी जैन ने बताया कि अब सुरक्षा गार्ड शाखा को मार्ग पर जाने प्रत्येक चालक की ब्रिथ एनेलाइजर द्वारा टेस्ट करने, रात्रि में कार्यशाला में पेट्रोलिंग/गश्त करने, आवारा पशुओं/जानवरों को कार्यशालाओं में घुसने से रोकने के लिए लाठियों की व्यवस्था तथा गार्ड के पास अग्निशमन यंत्र एवं सूखी बजरी से भरी बाल्टी की व्यवस्था करने व डीजल पम्प सुरक्षा के लिए पर्याप्त मात्रा में अग्निशमन यंत्र, कोई भी ज्वलनशील पदार्थ पम्प के पास नही रखने, डीजल टैंक से डीजल खाली होते समय पम्प से डीजल जारी नहीं करने, धूम्रपान वर्जित चेतावनी बोर्ड लगाने, इलेक्ट्रिक वायरिंग एवं पम्प का ठीक तरह से रख-रखाव, डीजल पम्प के आसपास चिकना एरिया नहीं होना चाहिए।

वाहनों की धुलाई वाले स्थान पर इलेक्ट्रिक वायर कवर होने, धुलाई वाले स्थान पर गंदगी एवं मिटटी/चिकनी जगह नहीं होने, पानी टंकी को समय-समय पर साफ करने, पानी बेकार ना हो इसके लिये हार्वेस्टिंग सिस्टम बनाया जाए। पिट/डग लाईट की पूर्ण व्यवस्था करने, आयल फैला हुआ ना हों, बिजली वायर पूर्ण कवर करने, वाहन चैक करते समय पिट मे उतरते समय विशेष सावधानी रखना चाहिए। हेवी डॉकिंग में वाहनों को ऊपर उठाने के लिये प्रयुक्त जैक सही रखने के साथ ही जैक के अतिरिक्त लकड़ी के गुटकों को भी बस के नीचे लगाया जाना चाहिए।

डीजल भी बचाएं : जैन
जैन ने डीजल बचत पर परिवर्तन लागत में कमी लाने के निर्देश जारी किए हैं। दरअसल, राजस्थान की भौगोलिक स्थिति होने के कारण डीजल की दरों में भिन्नता है इसलिए अधिक डीजल दरों वाले आगारों की वाहनों का संचालन कम डीजल वाले आगारों से डीजल लिया जाए जिससे निगम को आर्थिक बचत हो। लोहागढ़ आगार के कार्यवाहक मुख्य प्रबंधक महेश गुप्ता ने बताया कि बस संचालन में सबसे बड़ा खर्चा डीजल पर होता है इसको देखते हुए डीजल बचत किया जाना अति आवश्यक है।

खबरें और भी हैं...