• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bharatpur
  • Bird Crime City Bharatpur; 23 Chain Snatching In 11 Months, 35 Firing, 37 Mobile Robbery, 90% Of Incidents Without Numbered Vehicles

भास्कर पड़ताल:बर्ड क्राइम सिटी भरतपुर;11 महीने में 23 चेन स्नेचिंग, 35 जगह फायरिंग, 37 मोबाइल लूट, 90% वारदात बिना नंबरी वाहनों से

भरतपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस के मुताबिक कानून की ही कमजोरी ऐसी है कि बिना नंबर वाले वाहन 50 से 2000 रुपए तक जुर्माना देकर छूट जाते हैं। - Dainik Bhaskar
पुलिस के मुताबिक कानून की ही कमजोरी ऐसी है कि बिना नंबर वाले वाहन 50 से 2000 रुपए तक जुर्माना देकर छूट जाते हैं।

बर्ड सिटी भरतपुर अब क्राइम सिटी बनती जा रही है। पिछले 11 महीने के दौरान बदमाशों ने 23 चेन स्नेचिंग, 37 मोबाइल लूट और 35 जगह फायरिंग की घटनाओं को अंजाम दिया है। खास बात यह है कि पुलिस आंकड़ों के मुताबिक 90 प्रतिशत वारदातों में बिना नंबर वाले वाहनों का इस्तेमाल हुआ है। इससे पुलिस के लिए अपराधियों की पहचान और उन्हें पकड़ना मुश्किल हो जाता है।

हालांकि पुलिस बिना नंबर वाले वाहनों के खिलाफ नियमित कार्रवाई करने का दावा करती है। लेकिन, फिर भी शहर में खुले आम बिना नंबरी वाहन दौड़ रहे हैं। हालात ये हैं कि किसी भी चौराहे पर खड़े हो जाएं बिना नंबर वाली बाइक, स्कूटी, कार और ट्रैक्टर आदि पुलिस कर्मियों की आंखों के आगे से होकर जाते हुए दिख जाएंगे। शनिवार को भास्कर फोटो जर्नलिस्ट अजय सेडवाल ने बिजलीघर चौराहे पर 1 घंटे तक बैठकर बिना नंबर वाले वाहनों को वॉच किया। इस दौरान भी ऐसे कई वाहन आते-जाते दिखे।

अधिकारियों की मानें तो वारदातों में बाइक और कारों का इस्तेमाल हो रहा है। स्पीड अधिक होने के कारण बदमाशों के लिए भागना आसान होता है। वारदात में लिप्त वाहनों पर या तो नंबर प्लेट होती ही नहीं है। अथवा आधे-अधूरे या फर्जी नंबर लिखे होते हैं। कोई ठीक से नंबर नोट नहीं कर पाता। इसलिए सूचना देरी मिलती है और समय पर नाकाबंदी नहीं होने से मुल्जिम भाग जाते हैं।

केस 1 : सोने की चेन लूट में भी बिना नंबरी वाहन का इस्तेमाल
बिहारी जी मंदिर से दर्शन करके लौट रही मायादेवी नामक महिला के गले से कुछ बदमाश 24 अक्टूबर को सोने की चेन तोड़कर ले गए थे। वे बिना नंबर की बाइक पर आए थे। इससे पहले 14 अक्टूबर को भी मंशा देवी मंदिर से लौट रही कुसुम शर्मा की चेन लूट की वारदात को इसी तरह अंजाम दिया गया।

केस 2 : कच्ची बस्ती में चोरी का मोबाइल लेने आए, फायरिंग की
रंजीत नगर कच्ची बस्ती में 7 दिसंबर को 4 बदमाश बिना नंबरी बाइक पर ही चोरी का मोबाइल खरीदने आए थे। यहां कहासुनी के बाद फायरिंग करके भाग गए थे।

केस 3 : सेक्टर 3 में मोबाइल लूट में भी बिना नंबरी बाइक
सेक्टर 3 में 27 नवंबर को बिना नंबर की अपाचे बाइक पर आए बदमाश राहगीर अमरचंद के हाथ से मोबाइल लूटकर चंपत हो गए थे। इस वारदात में भी बिना नंबरी वाहन का इस्तेमाल हुआ था। माना जाता है कि पुलिस से बचने में ये काफी मददगार होते हैं।

‌50 से 2000 रूपये तक के जुर्माने पर ही छूट जाते हैं ऐसे वाहन
पुलिस के मुताबिक कानून की ही कमजोरी ऐसी है कि बिना नंबर वाले वाहन 50 से 2000 रुपए तक जुर्माना देकर छूट जाते हैं। ऐसे वाहनों को धारा 50सी/177 और धारा 39/192 में जब्त किया जाता है। वाहन मालिक रजिस्ट्रेशन की फोटो कॉपी देकर थाने या ट्रैफिक पुलिस से ही वाहन छुड़वा ले जाते हैं।

पुलिस ने पिछले 11 महीने में 1712 बिना नंबर के वाहन जब्त किए हैं : विश्नोई
बिना नंबरी वाहनों, पावर बाइक और काले शीशे वाली कारों पर पुलिस की पैनी नजर है। इन पर नियमित कार्रवाई की जा रही हैं। पिछले 11 महीने में 1712 यानि रोजाना करीब आधा दर्जन वाहन जब्त हुए हैं। जल्द ही बिना नंबरी वाहनों के खिलाफ विशेष अभियान शुरू किया जाएगा। ताकि क्राइम कंट्रोल किया जा सके। - देवेंद्र कुमार विश्नोई, पुलिस अधीक्षक, भरतपुर

खबरें और भी हैं...