पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

5 और पक्षियों की मौत:भरतपुर में बर्ड फ्लू के लक्षण नहीं मिलने से कौए-कबूतरों की सैंपलिंग नहीं होगी, मुर्गियों पर ही रहेगा फोकस

भरतपुर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
भरतपुर। शहर में गुरुवार को जल कौए सहित जिले में पांच पक्षियों की मौत हो गई। - Dainik Bhaskar
भरतपुर। शहर में गुरुवार को जल कौए सहित जिले में पांच पक्षियों की मौत हो गई।
  • जिले के सभी 95 मुर्गी फार्म की होगी जांच
  • मुर्गियों का होगा फिजिकल परीक्षण

शुक्र है कि अभी तक भरतपुर में बर्ड फ्लू का कोई मामला सामने नहीं आया है। किंतु मृत पक्षियों के मिलने का सिलसिला जारी है। गुरुवार को भी जल कौवा सहित 5 पक्षी मृत पाए गए। अब तक 70 मृत परिंदों को बरामद किया जा चुका है। ऐसे में मृत पक्षियों की संख्या को देखते हुए विभाग ने कौए और कबूतरों की सैंपलिंग नहीं करने का निर्णय लिया है क्योंकि कौवे और कबूतरों की संख्या 80 प्रतिशत से भी अधिक है।

विभाग का मानना है कि सर्दी के मौसम में यह सामान्य मौत है। उन्हें वैज्ञानिक विधि से निस्तारित किया जाएगा। इसलिए अब पूरा फोकस मुर्गियों पर रहेगा। विभाग ने गुरुवार से पोल्ट्री फार्म के निरीक्षण का विशेष अभियान प्रारंभ किया है। डाक्टर एवं नर्सिंग स्टाफ प्रत्येक पोल्ट्री फार्म का फिजिकल निरीक्षण करेगा। मुर्गियों में बीमारी अथवा पिछले दिनों मौत की जानकारी जुटाई जाएगी।

जरूरत पड़ने पर ब्लड और मार्विट के सैंपल लिए जाएंगे। पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. नगेश चौधरी ने बताया कि अब हमारा प्रवासी पक्षी और पोल्ट्री पर फोकस है। गुरुवार को 5 पोल्ट्री फार्म की जांच की गई, जहां स्थितियां सामान्य पाई गईं। किसी प्रकार की मुर्गियों में मौत अथवा बीमारी के लक्षण नहीं पाए गए हैं।

संचालकों को गाइडलाइन की पालना की सख्ती से करने को कहा गया है, जिसमें फार्म के आसपास कौओं को भगाने तथा फार्म पर बाहरी व्यक्तियों के प्रवेश पर रोकने को कहा गया है। साथ ही फार्म गेट पर चूना डलवाया गया है, जिससे बैक्टीरिया को रोका जा सके। गुरुवार को भरतपुर तिलक नगर में जल कौआ, कुम्हेर में दो स्थानों पर कौवे, नदबई और पहाड़ी में कबूतर मरे हैं। इन्हें निस्तारित कर दिया है।

चिकन की सेल 40 प्रतिशत तक कम हुई
बर्ड फ्लू के लक्षण नहीं, फिर भी लोग चिकन खाने से बच रहे, कारोबार 30 प्रतिशत प्रभावित इधर, बर्ड फ्लू के कारण चिकन कारोबार पर असर आया है। चूंकि यह पीक सीजन है इसलिए कारोबारी, विशेषकर पोल्ट्री फार्म संचालक चिंतित हैं। कारोबारियों का कहना है कि 30 प्रतिशत तक सेल प्रभावित हुई है।

कारोबारी रशीद ने बताया कि कोरोना काल में सुस्ती के बाद अब मौसम ठंडा होने के बाद कुछ सेल आई थी, लेकिन जब से बर्ड फ्लू का हल्ला हो रहा है तब से चिकन की डिमांड धीरे-धीरे से कम हो रही है। तीन-चार दिन में ही करीब 30 प्रतिशत सेल कम हुई है।

उल्लेखनीय है कि जिले में 95 पोल्ट्री फार्म संचालित है, जिनमें लगभग 3 लाख 35 हजार मुर्गियां हैं। इनमें तीन को छोड़ बाकी सब ब्रायलर हैं। जिले की कामां, पहाड़ी एवं नगर तहसीलों में सबसे अधिक पोल्ट्री फार्म संचालित हैं। इधर, पशुपालन विभाग के पोल्ट्री फार्मों के संचालकों से सतत संपर्क में हैं। तहसील मुख्यालय एवं नगर निगम क्षेत्र सहित 14 रैपिड रेस्पॉन्स टीम का गठन किया है।

रिपोर्ट: प्रमोद कल्याण

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- व्यस्तता के बावजूद आप अपने घर परिवार की खुशियों के लिए भी समय निकालेंगे। घर की देखरेख से संबंधित कुछ गतिविधियां होंगी। इस समय अपनी कार्य क्षमता पर पूर्ण विश्वास रखकर अपनी योजनाओं को कार्य रूप...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser