पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bharatpur
  • Checked For Symptoms As Soon As Possible; Hospitalized On Report Positive, Did Yoga With Drugs But Did Not Lose Courage, Beat Corona Within A Week

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जन संकल्प से हारेगा कोरोना:लक्षण दिखते ही जांच कराई; रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर अस्पताल में भर्ती हुआ, दवाओं के साथ योग किया लेकिन हौंसला नहीं खोया, एक सप्ताह में ही कोरोना को हराया

भरतपुर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • गंभीर संक्रमण होने के बावजूद अपनी इच्छाशक्ति से कोरोना को हराने वाले जाबांजों की कहानियां, पढ़िए आज सातवीं कड़ी में विमल जैन की कहानी।

काेराेना संक्रमण होने पर भी यदि आपका हौंसला बुलंद है और समय पर टेस्ट (जांच) करवाकर अगर आप इलाज लेते हैं तो यकीन मानिए कोरोना को चंद दिनों में ही हरा सकते हैं। अब मुझे ही ले लीजिए, मेरी उम्र 70 साल है। लेकिन, अपने बुलंद हौंसले की वजह से ही मैं 7 दिन में कोरोना को परास्त कर चुका हूं। दरअसल, सीकरी कस्बे के मैन बाजार में हमारा घर है। मुझे 12 अप्रैल को खाँसी और जुकाम के साथ हल्का बुखार हुआ था।

फिर ऐसी ही शिकायत मेरे पुत्र सुनील जैन (45) को भी हुई थी। लेकिन, हमने लापरवाही बिलकुल नहीं बरती। दूसरे ही दिन 13 अप्रैल को हम दोनों अलवर गए और वहाँ एक निजी अस्पताल में अपनी कोरोना जांच करवाई। हम दोनों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इस पर हम दोनों तुरंत अस्पताल में भर्ती हो गए। दोनों पिता-पुत्र के एक साथ कोरोना पॉजिटिव होने से परिवार में चिंता हुई।

यहां तक कि परिजन भी कांप उठे। लेकिन, हमने अपने साथ-साथ परिवार वालों का भी हौंसला बनाए रखा। अस्पताल में दवाइयों के साथ नियमित योग किया। क्योंकि हमें विश्वास था कि योग से तनाव हल्का होता है और इम्युनिटी पावर बढ़ती है। लगातार हम दोनों एक दूसरे की हिम्मत बढ़ाते रहे। फिर परिजन भी हौंसला रखने की बात करने लगे थे।

इसी वजह से 20 अप्रैल को हमारी कोरोना जांच रिपोर्ट निगेटिव आ गयी। इसके बाद हम लोग अस्पताल से छुट्टी लेकर घर आ गए। अब रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए हम आयुर्वेदिक काढ़े का प्रयोग कर रहे हैं। कुछ दिनों तक हल्की कमजोरी रही। लेकिन, हेल्दी डाइट खाने के बाद अब तबीयत में काफी सुधार है।

एक्सपर्ट व्यू... जीत के लिए मनोबल बनाए रखें
डॉ. एकता अग्रवाल एमडी (होम्यो) मनोरोग विशेषज्ञ का कहना है कि कोरोना से जीत के लिए शारीरिक मजबूती से ज्यादा मानसिक दृढ़ता जरूरी है। क्योंकि लोगों में कोरोना संक्रमण का भय इस कदर है कि चिंता और तनाव से ही ऑक्सीजन लेवल कम हा़े जाता है। ऐसी स्थिति में मनोबल बनाए रखना जरूरी है।

इसमें परिवार, मित्र और रिश्तेदारों की भूमिका महत्वपूर्ण है। वे अगर रोगी से बात करके हौंसला और दिलासा देते हैं तो रिकवरी जल्दी होती है। इसलिए रोगियों को योग व्यायाम करने के साथ ही पौष्टिक आहार भी लेना चाहिए। अच्छा साहित्य पढ़ें, अपनी रुचि के गेम खेले, संगीत सुने, फिल्में देखें, लेखन करेंगे तो बीमारी से ध्यान बटेगा और जल्दी रिकवर हाेंगे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय अनुसार अपने प्रयासों को अंजाम देते रहें। उचित परिणाम हासिल होंगे। युवा वर्ग अपने लक्ष्य के प्रति ध्यान केंद्रित रखें। समय अनुकूल है इसका भरपूर सदुपयोग करें। कुछ समय अध्यात्म में व्यतीत कर...

    और पढ़ें