पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वंदना व्यास ने कहा:कोरोना की तीसरी लहर से बच्चों को खतरा, अस्पतालों में अभी से रखें तैयारी

भरतपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
भरतपुर. चिकित्सा अधिकारियों से बात करतीं बाल संरक्षण आयोग की सदस्य। - Dainik Bhaskar
भरतपुर. चिकित्सा अधिकारियों से बात करतीं बाल संरक्षण आयोग की सदस्य।

राजस्थान राज्य बाल संरक्षण आयोग की सदस्य वंदना व्यास ने शनिवार को कोविड की तीसरी लहर में बच्चों की सुरक्षा को लेकर आरबीएम और जनाना अस्पताल का दौरा किया। वहां की गई तैयारियां को देखा तो बोलीं गंदगी की समस्या दूर करें, बालकों के प्रति कोई भी लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी।

आयोग की सदस्य व्यास ने राजकीय जनाना अस्पताल में बच्चा वार्ड का निरीक्षण किया। जहां बच्चों को दी जा रही सुविधाओं के बारे में प्रभारी डॉ रुपेंद्र झा से वार्ता कर एनआईसीयू का भी निरीक्षण किया। यहां डॉक्टर हिमांशु गुप्ता व नर्सिंग स्टाफ महेंद्र शर्मा भी मौजूद थे।

डॉ. रूपेंद्र झा ने कोरोना जैसी महामारी को ध्यान में रखते हुए कहा कि भविष्य में आने वाली कोविड की तीसरी लहर जो कि बच्चों के लिए खतरनाक बताई जा रही है, उसकी तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। उन्होंने तैयार किए गए वार्ड भी उन्हें दिखाए। आयोग की सदस्य व्यास ने हॉस्पिटल में हो रही गंदगी को देखकर नाराजगी व्यक्त की और स्टाफ ने जल्द ही व्यवस्था में दुरुस्त करने का आश्वासन दिया।

इसके बाद पूरी टीम सहित वह आरबीएम अस्पताल पहुंची, जहां पीएमओ डॉ जिज्ञासा साहनी से मुलाकात कर व्यवस्था का जायजा लिया। उन्होंने पीएमओ डॉ साहनी से कोरोना की तीसरी वेब को देखते हुए तैयारियों की जानकारी चाही। उन्होंने कहा कि अभी तैयारियां पूरी नहीं हुई हैं। बेड पर गंदगी थी, वार्ड में नर्सिंग स्टाफ के लिए बैठने का कोई स्थान नहीं था।

इसको लेकर आयोग की सदस्य व्यास ने पीएमओ डॉ साहनी को कहा कि आप और हमारा काम है, इसको पूरा करना। हमारा फर्ज है, इससे जल्दी से पूरा कराएं। उन्होंने कहा कि आप पूरा कार्य कर बाल कल्याण समिति को भी रिपोर्ट दें। हमारी समिति जल्दी ही आपका पुनः निरीक्षण कर आयोग को रिपोर्ट देगी।

बालकों के प्रति कोई भी लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। इस मौके पर निरीक्षण के दौरान बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष गंगाराम पाराशर सहित सदस्य राजाराम भूतोली, अनुराधा शर्मा, मदन मोहन शर्मा, नरेंद्र सिंह भी उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...