कोटा मंडल:सालभर में 20 करोड़ से ज्यादा जुर्माना वसूला, 3 लाख से ज्यादा मामले पकड़े

भरतपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोटा मंडल ने सालभर में 20 करोड़ से ज्यादा जुर्माना वसूला है।    - Dainik Bhaskar
कोटा मंडल ने सालभर में 20 करोड़ से ज्यादा जुर्माना वसूला है।   

कोटा मंडल ने बिना टिकट, अनियमित यात्रा करने वालों तथा सामान बुक किए बिना रेल सफर करने वालों के विरुद्ध चलाए गए अभियान में 3,10,627 मामले पकड़े तथा उनसे 20,51,44, 926 रूपए राजस्व अर्जित किया । कोटा मंडल के 61 साल के इतिहास में पहली बार इतना भारी जुर्माना वसूला गया है।

वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक अजय कुमार पाल ने बताया कि महाप्रबंधक सुधीर कुमार गुप्ता के मार्गदर्शन में, प्रमुख मुख्य वाणिज्य प्रबंधक मुकुल सरन माथुर के निर्देश पर तथा मंडल रेल प्रबंधक पंकज शर्मा के मार्गदर्शन में टिकट चेकिंग स्टाफ ने मंडल के सभी रेल खंडों में निरंतर बेटिकट यात्रा करने वालों के खिलाफ अभियान चलाए।

इसके अंतर्गत कोटा मंडल के नागदा-कोटा, कोटा-मथुरा खंड में विभिन्न रेलवे स्टेशनों तथा मंडल से गुजरने वाली सभी यात्री गाड़ियों में चैकिंग के अलावा अंबुश चैक, इंटेंसिव चैक तथा अन्य टिकट चैकिंग अभियान चलाए गए। अकेले दिसंबर माह में कुल 55607 मामले पकड़े तथा उनसे 3 करोड़ 81 लाख 40 हजार 20 रूपए जुर्माना वसूल किया।

इससे पहले माह नवंबर में भी कुल 54889 मामले पकड़े गए थे, इनसे कुल 3 करोड़ 61 लाख 45 हजार 390 रूपए जुर्माना वसूला गया। जून 2021 में भी 37003 मामले पकड़े गए थे और उनसे 2 करोड़ 73 लाख 33 हजार 130 रूपए जुर्माना वसूला गया था।

इस तरह महज पांच माह के अंतराल में ही कोटा मंडल ने सर्वाधिक जुर्माना वसूली का नया कीर्तिमान स्थापित किया है और यह पहला अवसर है जब टिकट चैकिंग स्टाफ की टीम ने मंडल के इतिहास में पहली बार तीन करोड़ 81 लाख रूपए से ज्यादा जुर्माना वसूला है। राजस्व अर्जित करने वाले टिकट चेकिंग कर्मचारियों में आर पी यादव, रामभजन, मुकेश खत्री, हेमराज मीणा, ऋषि उपाध्याय, ओपी मिश्रा, चेतराम मीणा तथा एमिनिटी स्टाफ में विवेक कश्यप, शिवरतन, रमेश चंद मीणा आदि कर्मचारियों का उल्लेखनीय योगदान रहा।

खबरें और भी हैं...