पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कांग्रेस का रिवाइवल प्लान:ग्राउंड लेवल पर पुराने पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को फिर सक्रिय करेगी कांग्रेस

भरतपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
यह अभियान अगले 30 दिन तक चलेगा।  - Dainik Bhaskar
यह अभियान अगले 30 दिन तक चलेगा। 
  • आउटरीच कार्यक्रम के तहत प्रदेश के 33 जिलों और 400 ब्लॉक में 5600 कार्यकर्ता जुड़ेंगे

सत्ता और संगठन में गुटबाजी एवं आपसी खींचतान के बीच कांग्रेस ने ऑल इंडिया स्तर पर रिवाइवल प्लान बनाया है। इसे आउटरीच नाम दिया गया है। इसके माध्यम से लंबे समय से निष्क्रिय नेताओं, ब्लॉक स्तर तक के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को फिर से सक्रिय किया जाएगा।

राजस्थान के 33 जिलों, 400 ब्लॉक और 160 कस्बों में 5600 से ज्यादा कार्यकर्ताओं को सक्रिय करने का लक्ष्य है। प्रत्येक ब्लॉक में 10 और नगर क्षेत्र में एक प्रभारी लगाया जाएगा। इसके लिए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने सभी जिला इकाइयों को विस्तृत कार्यक्रम भेजा है। यह अभियान अगले 30 दिन तक चलेगा।

इस अभियान के तहत ये कार्यकर्ता उन परिवारों और लोगों से संपर्क करेंगे जिन्होंने कोरोना महामारी के दौरान जोखिम लेकर अति आवश्यक सेवाओं को सुचारू बनाए रखा था। लेकिन वे फ्रंट लाइन वर्करों की कैटेगरी में शामिल नहीं हैं। जबकि सबसे ज्यादा यही लोग प्रभावित हुए थे।

इनके परिवारों का डाटा भी जुटाया जाएगा। ताकि उन तक यथासंभव मदद पहुंचाई जा सके। इनमें किसान, खेतिहर श्रमिक, रेहड़ी, थड़ी, सब्जी ठेला चालक, खोमचे वाले, हस्तकला कारीगर, धोबी, नाई, मोची, लोहार, बुनकर, कुम्हार, राजमिस्त्री, बढ़ई, शिक्षक, ऑटो, बैटरी, साइकिल रिक्शा चालक, प्लंबर, बिजली मिस्त्री, माली, मैकेनिक, घरेलू कामगार, झुग्गी-झौंपड़ी में रहने वाले, डिलीवरी ब्वॉय और स्ट्रीट वेंडर्स शामिल हैं।

प्रत्येक ब्लॉक में कोविड योद्धा बनाए जाएंगे

अभियान के दौरान प्रत्येक ब्लॉक में 10 ऐसे श्रमिक चुने जाएंगे जिन्होंने जोखिम लेकर कोरोना महामारी से लड़ने के काम किया, लेकिन उन्हें फ्रंट लाइन वर्कर नहीं माना गया था। अब उन्हें कांग्रेस की ओर से कोविड योद्धा नाम दिया जाएगा। स्थानीय सांसद, विधायक, पूर्व सांसद, पूर्व विधायक, लोकसभा, विधानसभा चुनावों के उम्मीदवार इनके साथ क्षेत्रवार वर्चुअल मीटिंग अथवा रैली करेंगे।

इस दौरान एआईसीसी की सोशल मीडिया टीम की ओर से कोविड के दौरान भाजपा सरकार की विफलताओं को इनके साथ शेयर किया जाएगा। स्थानीय इकाइयों द्वारा ऐसे पंफलेट भी वितरित किए जा सकते हैंं।

खबरें और भी हैं...