पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गड़बड़ी का आरोप:जांच करा योग्य अभ्यर्थियों को नौकरी देने की मांग की, मंत्रियों को ज्ञापन भी दिए

भरतपुर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सहायक रेडियोग्राफर के जारी परिणाम में गड़बड़ी का आरोप

अभ्यर्थियों ने चिकित्सा विभाग में सहायक रेडियोग्राफर की वेकन्सी के परिणाम में अनियमितताओं का आरोप लगाते हुए मामले की जांच एसओजी या एसीबी से कराकर योग्य अभ्यर्थियों को नौकरी दिलाने के लिए संशोधित सूची जारी करने की मांग की है। इसके लिए अभ्यर्थियों ने मुख्यमंत्री को लिखा है और चिकित्सा राज्यमंत्री डॉ सुभाष गर्ग, राज्यमंत्री भजनलाल व विधायक जोगिंदर सिंह अवाना को ज्ञापन दिए हैं।

अभ्यर्थी नवांशु मुद्गल ने बताया कि जून 2020 में कोविड-19 को देखते हुए सरकार ने 1058 सहायक रेडियोग्राफर एवं 1119 लैब टेक्नीशियन की भर्ती निकाली थी। उसके बाद 21 मई 2021 को राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड ने 750 विद्यार्थियों की अंतिम चयनित विद्यार्थियों की सूची जारी की, जिसमें लगभग 40-45% विद्यार्थी अन्य राज्य के शामिल किए हैं। जबकि उनके दस्तावेजो का क्रॉस वेरिफिकेशन भी नहीं किया गया है। इसमें सबसे ज्यादा गड़बड़ी आरपीएमसी में हुई है। क्योंकि चयन बोर्ड की विज्ञप्ति के अनुसार 70% क्रमांक शिक्षण के तथा 30% क्रमांक अनुभव के माने गए, जिसमें बाहरी चयनित अभ्यर्थियों ने फर्जी अनुभव प्रमाण पत्र लगाए हैं।

विज्ञापन में आवेदन की अंतिम तिथि 30 जुलाई 2020 थी, उक्त तारीख तक आरडॉटपीडॉटएमसी में रजिस्ट्रेशन अनिवार्य था। फिर भी चयनित सूची में उक्त तारीख के बाद रजिस्ट्रेशन कराने वाले अभ्यर्थियों को भी शामिल कर लिया गया, जबकि यह मामला उच्च न्यायालय जोधपुर डबल बेंच में लंबित है। इसलिए उक्त मामले की एसओजी व एसीबी से जांच करवा कर सही अभ्यर्थियों को सेवा का मौका दिया जाए और इस मामले में पारदर्शिता दिखाकर योग्य अभ्यर्थियों को नौकरी के योग्य माना जाए।

खबरें और भी हैं...