आस्था / गंगा मंदिर में पंचामृत से अभिषेक कर पहनाई नई पोशाक श्रद्धालुओं ने बाहर से ही किए दर्शन, कामां में नहीं लगा मेला

Devotees from outside the Panchamrit in the Ganga temple wore the new dress, anointed from outside, the fair did not take place
X
Devotees from outside the Panchamrit in the Ganga temple wore the new dress, anointed from outside, the fair did not take place

दैनिक भास्कर

Jun 02, 2020, 05:00 AM IST

भरतपुर. सोमवार को शहर में गंगा दशहरा श्रद्धालुओं ने अपने घरों में ही पूजा अर्चना कर मनाया। उत्तर भारत का विशाल गंगा जी मंदिर में पंडित माधवेंद्र सिंह ने सुबह गंगा महारानी का पंचामृत से अभिषेक किया व गंगा मैया को नई पोशाक धारण कराई। बाद में अनुष्ठान कार्यक्रम आयोजित किए गए। मंदिर में कोरोना वायरस महामारी को लेकर श्रद्धालुओं को मंदिर में प्रवेश नहीं करने दिया। मंदिर में ताला लगा हुआ था। श्रद्धालुओं ने गंगा मैया के मंदिर के बाहर से ही मत्था टेका। श्रद्धालुओं ने गंगा दशहरा पर घर-घर में गंगा जल से स्नान कर विधि विधान से गंगा मैया की पूजा अर्चना की। सुबह अनेक घरों में पकवान बनाए गए, जिससे गंगा मैया की प्रसादी लगाई गई। बुध की हाट स्थित गंगा मैया के मंदिरों में पुजारियों ने विधि विधान से पूजा अर्चना की। श्रद्धालुओं ने सोशल डिस्टेंस का ध्यान रखकर गंगा मैया की पूजा की गई।
कामां|गंगा दशहरा का पर्व लॉक डाउन के चलते मंदिरों की बंद कपाटाे के बीच मनाया गया। श्री गोकुलचंद्रमाजी मंदिर में आमजन के लिए दर्शन बंद थे, लेकिन प्रभु की सेवा रीति नियमानुसार चली और उसमें गंगा दशहरा के पर्व के अवसर पर ठाकुरजी को सजाया गया। कीर्तनिया ने “आगे आगे चलो भागीरथ को रथ” कीर्तन के द्वारा गंगा दशहरा की परंपरा को निभाया। वही सप्तम पीठ के मदन मोहन पीठ में मदन मोहन प्रभु के भी बंद कपाटों के बीच ठाकुर जी के समक्ष गंगा दशहरा का पर्व मनाया। कामां में ही स्थित गंगा मंदिर उदाका मोहल्ला तथा प्राचीन गंगा मंदिर तीर्थराज विमल कुंड पर भी गंगा महारानी का अभिषेक और विशेष पूजा अर्चना के साथ गंगा दशहरा का पर्व मनाया गया। लॉकडाउन के चलते तीर्थराज विमल कुंड पर लगने वाला गंगा दशहरा का लक्खी मेला आज नहीं लग सका और श्रद्धालुओं को बिना स्नान आचमन और परिक्रमा के ही मायूस  होकर घर लौटना पड़ा।
रूपवास। कस्बे में गंगा दशहरा का पर्व घरों पर महिलाओं ने खरबूजा व कलींदे का दान कर मनाया। सुमन सिंघल, गुड्डी बंसल, सुषमा, दुर्गेश, नीतू आदि महिलाओं ने बताया कि अलसुबह जागने के बाद कोरोना के कारण मंदिर नही जाकर घरो में ही स्नान किया। दस दस खरबूजा कलिंदा व आम सास ननद व अपने से बड़ी महिलाओ को देकर आशीर्वाद लिया।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना