शहर में शिक्षक संघों के शैक्षिक सम्मेलन आयोजित:डॉ. गर्ग बोले- मैं खुद शिक्षक हूं, समस्याओं को समझता हूं, समाधान के लिए हमेशा तैयार

भरतपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शिक्षक संघ सियाराम के सम्मेलन को संबोधित करते राज्य मंत्री गर्ग। - Dainik Bhaskar
शिक्षक संघ सियाराम के सम्मेलन को संबोधित करते राज्य मंत्री गर्ग।

राजस्थान शिक्षक संघ (सियाराम) के दो दिवसीय जिला स्तरीय शैक्षिक सम्मेलन का उद्घाटन तकनीकी शिक्षा एवं आयुर्वेद मंत्री डाॅ. सुभाष गर्ग के मुख्य आतिथ्य में हुआ। अध्यक्षता भगवत कटारा ने की। विशिष्ट अतिथि जिला शिक्षा अधिकारी प्रेम सिंह कुंतल, लोकदल के जिलाध्यक्ष संतोष फौजदार, शहर अध्यक्ष विनोद गुप्ता, एसीबीईओ विमल कुमार, एसीबीईओ चन्द्रशेखर, प्रधानाचार्या तृप्ति सिंघल, प्रधानाचार्य कर्मवीर सिंह, प्रदेश सभाध्यक्ष अशोक पाराशर, प्रदेश संरक्षक श्याम सिंह जघीना मौजूद रहे।

इस मौके पर डॉ. सुभाष गर्ग ने कहा कि मैं स्वयं शिक्षक हू्ं। शिक्षकों की समस्याओं से भली भांति परिचित हूं। उन्होंने शिक्षकों की समस्याओं के समाधान का भरोसा दिया। सम्मेलन में शिक्षा से संबंधित नवाचारों एवं शिक्षकों की समस्याओं पर खुली चर्चा आयोजित की गई। कार्यक्रम में जिलाध्यक्ष बाबूलाल कटारा आदि मौजूद थे। शिक्षक संघ शेखावत का जिला स्तरीय सम्मेलन गायत्री रिजॉर्ट भरतपुर में आयोजित हुआ।

मुख्य अतिथि तकनीकी शिक्षा मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग थे। अध्यक्षता रामस्वरूप चतुर्वेदी कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष राज शिक्षक संघ शेखावत ने की। इस मौके पर मुख्य वक्ता उमेश शर्मा ने कहा कि शिक्षकों को संगठित होकर जायज मांगों को लेकर चिंतन करना चाहिए। गुणात्मक शिक्षा और प्रभावी बनाना चाहिए। प्रदेश अध्यक्ष कार्यकारी चतुर्वेदी ने कहा कि शिक्षकों उत्पीड़न तुरंत बंद करना चाहिए।

स्पष्ट स्थानांतरण पॉलिसी बननी चाहिए। इस मौके डॉ गर्ग ने स्पष्ट ट्रांसफर पॉलिसी का समर्थन करते हुए कहा कि वो भी ऐसा चाहते हैं। प्रदेश संयुक्त मंत्री पवन शर्मा ने मांग कि सरकार द्वारा घोषणा के अनुसार पूर्व मैं बंद विद्यालयों को शीघ्र खोले। राजस्थान शिक्षक संघ (अंबेडकर) जिला शाखा के बैनर तले शैक्षिक सम्मेलन आयोजित हुआ।

अतिथि के रूप में कैबिनेट मंत्री भजनलाल जाटव, राज्यमंत्री डॉ सुभाष गर्ग, मेयर अभिजीत कुमार, प्रो.अरविंद वर्मा, संयुक्त निदेशक(शिक्षा विभाग) रामकेश मीना, मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी साहब सिंह, मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी (माध्यमिक/प्रारम्भिक) श्रीमान प्रेम सिंह कुंतल, शिवचरण लाल मधुकर (प्रदेश सलाहकार एवं संरक्षक रा. शि. सं. अ.) रामगोपाल चौधरी (प्रदेश अध्यक्ष एससी, एसटी, ओबीसी महासंघ) उपस्थित रहे। अध्यक्षता ओमप्रकाश केरौं ने की।

कैबिनेट मंत्री भजनलाल जाटव ने कहा की राज्य के प्रत्येक व्यक्ति को गुणवत्ता युक्त शिक्षा मिले इसके लिए हम सभी को राजनैतिक दल, पार्टी व संघठन से ऊपर उठ कर कार्य करने की आवश्यकता है। राज्यमंत्री सुभाष गर्ग ने कहा की राज्य सरकार की प्राथमिकता है की राज्य के गरीब और निचले स्तर तक सभी प्रदेश वासियों को शिक्षा एवं राज्य सरकार की विभिन्न योजनाएं पहुंचे।

मुख्य प्रवक्ता प्रो. अरविन्द वर्मा ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 की समीक्षा की एवं शिक्षा नीति से उत्पन्न होने वाली चुनौतियों के बारे में अवगत कराया। प्रो. अरविंद वर्मा ने कहा कि शिक्षा नीति 2020 देश में निजीकरण और कॉरपोरेट कल्चर को बढ़ाने के साथ साथ शिक्षा के क्षेत्र में चिंतन और शोध को हतोत्साहित करेगी, इस नीति को बनाने से पहले सभी स्टेक होल्डर्स की राय नहीं ली गई है।

मेयर अभिजीत कुमार ने भारत एवं विकसित देशों की शिक्षा के मध्य खाई के बारे में बताया। महेंद्र सिंह वाबैन ने संघ का प्रतिवेदन पढ़ा। राजस्थान शिक्षा सेवा परिषद के शैक्षिक सम्मेलन में सिविल लाइंस स्कूल में सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता हरेन्द्र सिंह सोगरवाल ने की। कार्यक्रम में संयुक्त निदेशक रामकेश मीणा आदि मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...