• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bharatpur
  • Eco Village To Be Built On 6 Acres Near Dahra Mor; There Will Also Be Yoga, Panchakarma, Ayurveda, Stone, Sun, Mud, Fasting And Physiotherapy On The Lines Of Kerala.

अच्छी खबर:डहरा मोड़ के पास 6 एकड़ में बनेगा ईको विलेज; केरल की तर्ज पर योग, पंचकर्म, आयुर्वेद, स्टोन, सन, मड, फास्टिंग और फिजियोथैरेपी भी होगी

भरतपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

केरल की तर्ज पर अब भरतपुर में भी इको विलेज बनाया जाएगा। इसमें कुंडलिनी जागरण और अरोमा थेरेपी से तन-मन को स्वस्थ किया जाएगा। प्रोग्रेसिव यूनिवर्सल सोसायटी की ओर से करीब 6 एकड़ में बन रहे ईको विलेज में 10 बैंबू बेस झोपड़ी बनाई जाएंगी। भगवान शिव की प्रतिमा स्थापित होगी। लाइब्रेरी, हर्बल गार्डन भी विकसित किए जाएंगे। यह ईको विलेज जयपुर-आगरा हाइवे पर डहरा मोड के पास धर्मार्थ पीआर सरकार इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ एंड फ्यूचर मेडिसन यानी मेडिकल कॉलेज में बनाया जा रहा है।

सचिव साध्वी आनंद हितैषणा ने बताया कि इको विलेज में स्थापित होने वाली भगवान शिव की प्रतिमा में 7 चक्र मूलाधार, स्वाधिष्ठान, मणिपुर, अनाहत, विशुद्ध, आज्ञा चक्र और सह्द्धार का दिखाया जाएगा। अध्यात्म और स्वास्थ्य में इसे बह्म चक्र माना है। इसमें कुंडलिनी जागरण का अभ्यास कराया जाएगा। सभी विकार दूर होने से जीवन आनंदमय हो जाता है। यहां सात्विक रेस्टोरेंट भी खोला जाएगा।

यानी शरीर की प्रवृति सत, रज, तम को जांच कर ऐसा भोजन उपलब्ध कराया जाएगा जो तन और मन के स्वास्थ्यकर हो। यहां अरोमा, योग, पंचकर्म, आयुर्वेद, स्टोन, सन, मड, फास्टिंग और फिजियोथेरेपी भी इस्तेमाल की जाएगी।

अरोमा थैरेपी...न्यूरांस से दिमाग एनर्जेटिक होता है
अरोमा थेरेपी में सुगंध की सहायता से चिकित्सा की जाएगी। इसलिए इको विलेज में विशेष तरह की क्यारियां तैयार की जाएंगी। इसमें चयनित सुगंधित फूलों के पौधे लगाए जाएंगे। सुगंधियों का प्रयोग करने से मस्तिष्क को लाभ पहुंचता है। सुगंधित फूलों से अर्क निकाला जाता है। हर अर्क की अपनी खुशबू और पहचान होती है। इन्हीं अर्क के मसाज से तनाव कम होता है। मन को शांति मिलती है। शरीर को ऊर्जावान बना देता है।

प्राकृतिक चिकित्सक डॉ. वीरेंद्र अग्रवाल का कहना है कि मस्तिष्क में सुगंधियों को पहचानने वाले न्यूरॉन्स होते हैं। ये न्यूरॉन्स सुगंध के कारण मस्तिष्क को एनर्जेटिक बना देते है। इससे त्वचा, बाल, जोड़ों के दर्द, अर्थराइटिस आदि में लाभदायक है। जिरेनियम, रोज, चंदन, नरोली, पंचोली केमोमाइल, लेमन, बरगामोट, लेवेंडर, मिंट, बेसिल आयल से थेरेपी देते हैं।

खबरें और भी हैं...