आरजीएचएस:कर्मचारियों का पंजीकरण अनिवार्य

भरतपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राजस्थान गवर्नमेंट हेल्थ स्कीम (आरजीएचएस) में गत 1 जुलाई से कैशलेस इनडोर/डे-केयर चिकित्सा लाभ प्रारम्भ हैं तथा शीघ्र ही आउटडोर चिकित्सा सुविधा का भी शुरू होगी। लेकिन ऐसे कार्मिक जिन्होंने आरजीएचएस में अपना पंजीकरण नहीं करवाया है, उन्हें गत 1 अक्टूबर से किसी भी प्रकार का स्वास्थ्य परिलाभ आरजीएचएस में दिया जाना संभव नहीं है। ऐसे कार्मिक जल्द से जल्द रजिस्ट्रेशन करवा लें, जिससे उन्हें आगामी 1 जनवरी से योजना के लाभ मिलना शुरू हो जाए।

दरअसल, सरकार द्वारा बजट घोषणा 2020-21 में सेवारत कार्मिकों को राजस्थान सरकार स्वास्थ्य योजना के तहत निःशुल्क चिकित्सा लाभ प्रदान करने की घोषणा की है। इसके लिए समस्त कार्मिकों का पंजीकरण कराया जाना आवश्यक है। राज्य एवं प्रावधायी निधि विभाग के अतिरिक्त निदेशक ओम प्रकाश मीना ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा आरजीएचएस योजना का लाभ 1 जुलाई 2021 से दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इस योजना के तहत कैशलेस इन्डोर एवं डे-केयर चिकित्सा के लाभ प्रारंभ कर दिए गए हैं।

आरजीएचएस योजना के तहत शीघ्र ही कैशलेस आउटडोर चिकित्सा सुविधा भी उपलब्ध कराई जाएगी। आरजीएचएस योजना के तहत चिकित्सा लाभ समस्त राजकीय एवं अनुमोदित निजी चिकित्सालयों में सुविधा उपलब्ध कराई गई है। योजना में 1 जनवरी 2004 से पूर्व के कार्मिकों पर अनिवार्य रूप पश्चात् नियुक्त कार्मिकों पर अंशदान कटौती के आधार पर वैकल्पिक सुविधा उपलब्ध रहेगी। साथ ही राज मेडीक्लेम योजना का लाभ भी आरजीएचएस योजना के माध्यम से पंजीकरण कराने पर दिया जाएगा। उन्होंने समस्त आहरण एवं वितरण अधिकारियों से आग्रह किया है कि उनके अधीनस्थ समस्त कार्मिकों का पंजीकरण कराया जाना आवश्यक है।

खबरें और भी हैं...