पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सीओ कामां पर दो लाख रुपए ऐंठने का आरोप:दुष्कर्म पीडि़ता के साथ आईजी ऑफिस पर धरने पर बैठा परिवार

भरतपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कामां निवासी एक व्यक्ति शुक्रवार दोपहर दुष्कर्म पीडि़ता बेटी और परिवार के अन्य सदस्यों को साथ लेकर आईजी रेंज भरतपुर पीके खमेसरा के पास फरियाद लेकर आया। आईजी के नहीं मिलने पर कार्यालय के समक्ष धरना देकर बैठ गया।

पीडित व्यक्ति का आरोप है कि 18 जुलाई 2020 को नुहू मेवात के रानियाकी ताबडू निवासी जुहुरुदीन मेव के चार पुत्रों वकील, ताहिर, खालिद, कयूम मेरी नाबालिग बेटी का अपहरण कर दुष्कर्म किया। जिस पर मेरे द्वारा उनके खिलाफ कामां थाना में 26 जुलाई 2020 को दर्ज कराया गया। लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं।

इसके बाद आरोपियों ने 21 जनवरी 2021 को स्कूल से लौट रही बड़ी बेटी का अपहरण करने का भी प्रयास किया था।जब में अनुसंधान अधिकारी सीओ कामां प्रदीप यादव के पास मामला दर्ज कराने पहुंचा तो उन्होंने मुकदमा दर्ज करने से इंकार कर दिया, इस पर मैंने 21 मार्च को इस्तगासा के जरिए कामां थाना में एफआईआर दर्ज कराई।

पीडित का आरोप है कि सीओ कामां ने आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए मुझसे 4 बार में 2 लाख रुपए ऐंठ लिए लेकिन अभी तक एक भी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं की है। हाल ही में जब अपनी पत्नी के साथ सीओ के पास गया तो उन्होंने फिर 80 हजार रुपए की मांग की, तथा हमें आरोपियों के साथ राजीनामा कर लेने को कहा।

जब हमने राजीनामा से इंकार कर दिया तो हमें भगा दिया। पीडित व्यक्ति ने चेतावनी दी है कि यदि मुझे न्याय नहीं मिला तो मैं परिवार सहित आत्महत्या कर लूंगा। इधर, सीओ कामां प्रदीप यादव ने बताया कि आरोप झूठे हैं। यदि ऐसी बात है तो उसने मुझे उसने एसीबी में ट्रैप क्यों नहीं कराया।

दरअसल अनुसंधान में मात्र एक युवक वकील दोषी पाया गया है, जिसे पुलिस टीम पूर्व में ही गिरफ्तार कर चुकी है। दुष्कर्म पीडि़ता का पिता मुझ पर झूठे आरोप लगाकर दबाव बनाकर आरोपी जुहुरुदीन के चारों बेटों को दुष्कर्म के आरोप में फंसाना चाहता है।

खबरें और भी हैं...