पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

इंसाफ के लिए परिवार के साथ दिया धरना:तख्तियां लेकर आईजी ऑफिस के बाहर बैठी गैंगरेप पीड़िता, अधिकारियों से की इंसाफ की मांग; एक साल पुराने मामले में पुलिस पर कार्रवाई नहीं करने का लगाया आरोप

भरतपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इंसाफ के लिए हाथों में तख्तियां लेकर प्रदर्शन करती - Dainik Bhaskar
इंसाफ के लिए हाथों में तख्तियां लेकर प्रदर्शन करती

भरतपुर के आईजी ऑफिस पर शुक्रवार को एक 14 साल की नाबालिग लड़की ने अपने परिवार के साथ धरना दिया। नाबालिग का आरोप है कि उसका साल 2020 के जुलाई महीने में चार युवकों ने अपहरण कर लिया था। और उसका अपहरण कर उसे चंडीगढ़ ले गए जहां उसके साथ दुष्कर्म किया। इस मामले में अभी सिर्फ एक आरोपी को गिरफ़्तार किया गया लेकिन बाकी के तीन आरोपी अभी भी फरार हैं। नाबालिग के परिवार की मांग है की जल्द से जल्द बाकी के तीन आरोपियों को भी गिरफ्तार किया जाए।

इस मामले पर नाबालिग के पिता ने बताया की 18 जुलाई 2020 को वह अपने घर से बाहर गए हुए थे। उस समय उनके घर पर उनकी बेटी अकेली थी इतने में उनके घर पर उनकी बहन का दामाद तीन युवकों के साथ आया और उनकी लड़की को घुमाने के बहाने से बाहर ले गया।

कुछ देर बाद वह अपने घर पहुंचे और अपनी लड़की को नहीं पाया तो उन्होंने लड़की को जगह जगह ढूंढा लेकिन उसके बाद नाबालिग का कुछ पता नहीं लगा। कुछ देर बाद नाबालिग के पिता की बहन का दामाद उनके घर आया और नाबालिग के पिता को कहा की उनकी लड़की हमारे पास है और वह उसे थोड़ी देर में घर पर ही छोड़ जायेंगे, लेकिन पूरा दिन और पूरी रात बीत जाने के बाद भी उनकी लड़की घर नहीं आई।

उन्होंने अपने बहन के दामाद से अयूब से बात की तब उसने उन्हें हरियाणा के तबडु नाम की जगह बुलाया और कहा यहां आकर अपनी लड़की को ले जाइये। नाबालिग के परीजन तबडु पहुंचे लेकिन उसके बाद भी उन्हें अपनी लड़की नहीं मिली। तब अयूब ने उन्हें चडीगढ़ बुलाया और नाबालिग के पिता को उनकी लड़की सुपुर्द की।

जिसके बाद नाबालिग के पिता ने 26 जुलाई को कामां थाने में अपनी बेटी के साथ दुष्कर्म और अपहरण का मुकदमा दर्ज करवाया। पुलिस ने इस मामले की जांच करते हुए एक आरोपी वकील को गिरफ्तार कर लिया। नाबालिग के परिवार का आरोप है की बाकी के तीन आरोपियों को पुलिस गिरफ्तार नहीं कर रही और सीओ प्रदीप यादव उनसे गाडी खर्चे और कागजों के ख़र्चे के नाम से करीब 2 लाख रुपये चार बार में ले चुके हैं।

पुलिस बाकी के तीन आरोपियों वकील, ताहिर, खालिद को गिरफ्तार नहीं कर रही। ये तीनों आरोपी ताबडु जिला नूह के रहने वाले हैं। उन्हें जल्द गिरफ्तार कर नाबालिग को इंसाफ दिलाया जाए और सीओ से उनके पैसे वापस दिलाए जाए।

पुलिस ने बताई यह कहानी

वहीं इस मामले पर एडिशनल एसपी वंदिता राणा ने बताया की कामां से एक नाबालिग पीड़िता आज आई थी। नाबालिग ने चार युवकों के पर दुष्कर्म का मामला दर्ज करवाया है। इस मामले की सीओ कामां द्बारा तफ्तीश की गई थी जिसमें एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया था। उस समय बाकी के तीन आरोपियों का घटना में कोई हाथ नहीं पाया गया था, लेकिन अब उसकी जांच दुबारा ADF को दे दी गई है। अगर तीनों आरोपियों की कोई संलिप्तता पाई जाती है तो उनकी गिरफ्तारी की जाएगी।

खबरें और भी हैं...