पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सुविधा:हार्ट रोगियों का अब आरबीएम में ही हो सकेगा इलाज

भरतपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • टू डी ईको, टीएमटी जांच मशीनों और आईसीयू वार्ड का चिकित्सा राज्यमंत्री डॉ. गर्ग ने किया लोकार्पण

हार्ट के रोगियों को इलाज के लिए अब जयपुर अथवा आगरा नहीं जाना पड़ेगा। आरबीएम अस्पताल में ही उन्हें बेहतर इलाज मिल सकेगा। इसके लिए टू-डी ईको, टीएमटी जांच मशीनों और गहन चिकित्सा इकाई (आईसीयू) का बुधवार को चिकित्सा राज्यमंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने लोकार्पण किया।

इस मौके पर डा. गर्ग ने कहा कि हृदय रोगियों को अब अपने शहर में ही इलाज की बेहतर सुविधाएं मिल सकेंगी। उन्होंने कहा कि भरतपुर में बेहतर चिकित्सा सेवाओं के लिहाज से आरबीएम अस्पताल को अब जयपुर के सवाई मानसिंह अस्पताल (एसएमएस) की तर्ज पर ही तैयार किया जा रहा है। धीरे-धीरे रोगियों के लिए सुविधाएं बढ़ाई जा रही हैं। हमारे यहां भी जल्द ही सुपर स्पेशलिस्ट यूनिट भी शुरू होगी। इसके लिए चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से उनकी चर्चा हो चुकी है।

उन्होंने बताया कि प्रयास किया जा रहा है कि मरीजों को किसी भी तरह के इलाज के लिए जयपुर न जाना पड़े। इस कड़ी में आज 2डी ईको कलर डॉप्लर मशीन का लोकार्पण किया गया है। इसके अलावा यूनिक कार्डिक के लिए एक आइसीयू भी बनाया गया है। इससे भरतपुर जिले सहित आसपास के लोगों को भी बेहतर इलाज मिलेगा। उम्मीद है कि अगले बजट में नेफ्रोलाॅजी, न्यूरोलॉजी समेत कई अन्य सुविधाएं भी शुरू करने की घोषणाएं होंगी। उन्होंने बताया कि कैथलैब शुरू कराने के लिए भी उच्च स्तरीय प्रयास किए जा रहे हैं।

उन्होंने डॉक्टरों और चिकित्सा कर्मियों को चेतावनी देते हुए कहा कि जो व्यक्ति अपना काम ठीक से नहीं करेंगे या कार्य में लापरवाही बरतेंगे उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। इस मौके पर जिला कलक्टर नथमल डिडेल, मेडिकल कॅालेज के प्राचार्य डाॅ. रजत श्रीवास्तव, पीएमओ डॉ. नवदीप सिंह, हृदय रोग विशेषज्ञ डाॅ. पीएस यादव, डाॅ. केसी बंसल समेत अन्य चिकित्सा अधिकारी मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें