पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लूट की कोशिश का मामला:ये कैसी पुलिस, रिपोर्ट के चौथे दिन खंगाले सीसीटीवी

भरतपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

लूट जैसी संगीन वारदातों को लेकर भी कोतवाली पुलिस गंभीर नहीं है। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि बैंक मैनेजर से शाम 6.30 बजे मुखर्जी नगर मोड पर हुई कट्टा दिखाकर बैग लूटने की कोशिश मामले की एफआईआर ही दो दिन बाद दर्ज की।

चौथे दिन नक्शा मौका बनाया और आसपास के सीसीटीवी फुटेज खंगाले। जबकि एफआईआर में जिस एक पूर्व कर्मचारी को नामजद किया गया था उसे पकड़कर पूछताछ तक नहीं की। जबकि पीड़ित बैंक मैनेजर के मुताबिक वारदात से दो दिन पहले पूर्व कर्मी उमेश सारस्वत ने उन्हें धमकी दी थी।

उल्लेखनीय है कि इंडसइंड बैंक के मैंनेजर विवेक शर्मा 3 मई की शाम जब बैंक कामकाज खत्म करके घर लौट रहे थे तो 5 बदमाशों ने कट्टा दिखाकर उनसे बैग छीनने की कोशिश की थी। इसकी शिकायत उन्होंने उसी दिन कोतवाली थाने में दे दी थी। लेकिन, दो दिन तक पुलिस ने उनकी एफआईआर ही दर्ज नहीं की। बल्कि वहां पुलिसकर्मी ने कहा कि अगले दिन मुकदमा दर्ज करेंगे। इस पर बाद पीड़ित ने कुछ जानकारों को थाने भेजा, तब जाकर रिपोर्ट दर्ज हुई।

सीओ सिटी के दावे भी खोखले, नहीं पकड़े लुटेरे
इधर, रंजीत नगर में भी 3 मई को संजय मेडिकल स्टोर पर हुई लूट को लेकर सीओ सिटी सतीश वर्मा के दावे भी खोखले निकले। चिन्हित कर लेने के बावजूद लुटेरे अभी तक नहीं पकड़े गए। इससे पहले दुकानदार संजय अरोड़ा ने घटना की सूचना तुरंत तत्कालीन रेल चौकी प्रभारी सब इंस्पेक्टर श्रद्धा पचौरी को दी थी।

लेकिन, उन्होंने डेढ़ घंटे तक न तो नाकाबंदी कराई और न ही कंट्रोल रूम अथवा अफसरों को सूचना दी। बदमाश भागे भी रेल चौकी के सामने से थे। इतनी लापरवाही के बावजूद उन्हें सिर्फ लाइन हाजिर किया।

खबरें और भी हैं...