बहू की हत्या में सास को 10 साल बाद उम्रकैद:पति और ससुर को पहले काट रहे आजीवन कारावास की सजा, मार्च 2012 में फंदा लगाकर मार डाला था

बयाना, भरतपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डेमो पिक - Dainik Bhaskar
डेमो पिक

भरतपुर जिले की बयाना कोर्ट ने बहू की हत्या के जुर्म में सास को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। इसके अलावा 10 हजार रुपए जुर्माना भी लगाया है। महिला की हत्या के जुर्म में पति और ससुर को पहले ही आजीवन कारावास की सजा हो चुकी है।

करौली जिले के महावीरजी थाने के नौरंगाबाद के रहने वाले प्रेम सिंह ने 19 मार्च 2012 को एक मामला दर्ज करवाया था। रिपोर्ट के अनुसार राम खिलाड़ी की बेटी की शादी 19 नवंबर 2011 को बयाना के रहने वाले रणजीत सिंह के साथ हुई थी। शादी के 4 महीने बाद ही पति रणजीत ससुर विजय सिंह और सास संता ने एक बाइक और जयपुर में प्लाट की मांग की। मांग पूरी नहीं होने पर उनकी बेटी संगीता के फंदा लगाकर हत्या कर दी थी। संगीता की हत्या करने बाद बिना किसी को बताए तीनों ने उसका अंतिम संस्कार भी कर दिया।

मामला दर्ज होने के बाद पति और ससुर को पुलिस ने कुछ दिनों बाद ही गिरफ्तार कर लिया था। तफ्तीश में सास भी बहू की हत्या में शामिल थी। जब तक पुलिस उसे पकड़ती, वह फरार हो गई। काफी समय बाद उसे पकड़ा गया और कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने अब सास को भी आजीवन कारावास की सजा सुना दी है। 10 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया।

रिपोर्ट- महेश शर्मा, बयाना, भरतपुर

खबरें और भी हैं...