भास्कर फॉलोअप:8 हजार क्विंटल गेहूं के घोटाले के मामले में अब ट्रांसपोर्टर का दूसरा गोदाम भी सील

भरतपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राशन के गेहूं पर डाका डालने वाले ट्रांसपोर्टर का खेमसिंह तिराहे के आगे स्थित गोदाम सोमवार शाम सील कर दिया गया है। - Dainik Bhaskar
राशन के गेहूं पर डाका डालने वाले ट्रांसपोर्टर का खेमसिंह तिराहे के आगे स्थित गोदाम सोमवार शाम सील कर दिया गया है।

राशन के गेहूं पर डाका डालने वाले ट्रांसपोर्टर का खेमसिंह तिराहे के आगे स्थित गोदाम सोमवार शाम सील कर दिया गया है। गोदाम में राशन का गेहूं रखा होने की आशंका पर खाद्य विभाग और आपूर्ति निगम की टीम पहुंची थी। ट्रांसपोर्टर का ढ़ाई घंटे तक इंतजार करने के बाद टीम ने सील करने की कार्रवाई की है। दूसरी ओर निगम और विभाग के तलब किए जाने पर रिपोर्ट भेजी गई है।

खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति निगम और खाद्य विभाग की टीम गायब गेहूं तलाश करते हुए दोपहर दो बजे ट्रांसपोर्टर चंद्रावती हॉस्पिटैलिटी के गोदाम पहुंची। खेमकरण तिराहे के आगे पुराने इंडस्ट्रीयल एरिया स्थित गोदाम मालिक राजीव पालीवाल से पूछताछ की। जिसमें सामने आया कि ट्रांसपोर्टर के अधिकृत प्रतिनिधि लोकेंद्र सिंह ने यह गोदाम करीब छह महीने पहले किराए पर लिया था।

जहां कई बार बड़ी मात्रा में गेहूं रखा गया। निगम मैनेजर मोनिका मीणा के अनुसार ट्रांसपोर्टर जितेन्द्र सिंह, उनके अधिकृत प्रतिनिधि लोकेंद्र सिंह, जाटोली के पूर्व सरपंच ओम प्रकाश जाट इत्यादि को गोदाम खोलने के लिए मौके पर बुलाया गया। इंतजार करने के बाद भी गोदाम खोलने कोई नहीं पहुंचा।

ऐसे में राशन का गेहूं छिपाए होने की आशंका पर शाम पौने छह बजे गोदाम को सील कर दिया गया। नोटिस देने के बाद भी गोदाम नहीं खोलने पर विधिक कार्रवाई की जाएगी। दूसरी ओर निगम और विभाग के जयपुर स्थित मुख्यालय से मिलावट तथा घोटाले पर रिपोर्ट मांगी गई।, इधर भाजपा ने भी अपनी जांच कमेटी बना दी है।

खबरें और भी हैं...