पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जागरुकता:ग्रामीणों को दी मधुमक्खी पालन की जानकारी, बी- बॉक्ट किट भी बांटी

भरतपुर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
भरतपुर. मधुमक्खी पालकों को किट देते अतिथि। - Dainik Bhaskar
भरतपुर. मधुमक्खी पालकों को किट देते अतिथि।
  • मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने किया कार्यक्रम का शुभारंभ

उर्मिद्वार फाउंडेशन, एफएमसी और तकनीकी संस्थान आईआईआरडी के संयुक्त तत्वावधान में बीकीपिंग कलस्टर सीएफसी का उद्घाटन और मधुमक्खी पालकों को बी-बॉक्स किट वितरण का शुभारंभ एमएसएमई निदेशालय के निदेशक वीके शर्मा और जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी राजेंद्र सिंह चारण के मुख्य आतिथ्य में नगला पिचुमरिया मॉर्डन स्कूल के पास सीएफसी केंद्र पर हुआ।

इसमें किसानों को मधुमक्खी पालन के बारे में विस्तार से बताया गया और बी-बॉक्स किट वितरित की गईं। उर्मिद्वार फाउण्डेशन के सचिव योगेश दीक्षित बताया गया कि जिले के 670 से 1000 मधुमक्खी पालकों को सीधे तौर पर भारत सरकार द्वारा वर्ष तक वित्तीय सहायता से ( 15 वर्षो तक) लाभान्वित किया जाएगा।

इसके तहत 600 लाभार्थियों को बी-बॉक्स एवं हनी एक्सटेक्टर मशीन, हनी ट्रे आदि का वितरण किया गया। उन्होंने बताया कि उक्त शहद प्रोसेसिंग प्लाट से प्रतिदिन 2000 किलो शहद के प्रोसेसिंग से वर्ष में 3 लाख किलो से भी अधिक शहद के मूल्य वर्धन का लाभ मधुमक्खी पालकों को प्राप्त होगा।

अध्यक्ष भूदेव प्रसाद ने बताया कि मधुमक्खी पालकों के बी-बॉक्स के माइग्रेशन में योजनाबद्ध तरीके से और सुरक्षा के साथ कार्य किया जाएगा। एमएसएमई जयपुर के सहायक निदेशक दिनेश सोनी के द्वारा लाभार्थियों को तकनीकी प्रशिक्षण, लेखा संधारण और बैंक लोन के बारे में बताया।

सीए राजीव गोयल द्वारा एकाउंन्टिंग, बुक कीपिंग, बैंक लिंकेज, आय संवर्धन और रखरखाव का प्रशिक्षण देकर मधुमक्खी पालकों की आयवृद्धि की जानकारी दी। कार्यक्रम में एसपीवी के अध्यक्ष बृजेश कुमार, सचिव अनूप सिंह, दामोदर शर्मा एवं राजेश कुमार, अभिजीत सिंह पाल के द्वारा प्रशिक्षण गुणवता युक्त प्रशिक्षण दिया गया।

खबरें और भी हैं...